बिहार : अनफिट स्कूली वाहनों पर लगेगा 1 लाख का जुर्माना, जानें – क्या है नियम..

डेस्क : निजी विद्यालयों में बच्चों को स्कूल से घर ले जाने के लिए गाड़ियों की सुविधा दी जाती है। ऐसे में कई स्कूल वैन या अन्य गाड़ियां ऐसी स्थिति में होती है जो बिल्कुल भी मानक के विपरीत हो बता दें कि स्कूल के बच्चों को ढूंढने वाली निजी गाड़ियां स्कूल की ही मानी जाएगी। विद्यालय प्रबंधन को गाड़ी मालिक से एग्रीमेंट कर परिवहन मानकों का सौ फीसदी पालन कराना होगा।

जिला परिवहन अधिकारी फिरोज अख्तर ने शुक्रवार को शहर के दर्जनों स्कूल प्रबंधकों के साथ बैठक कर सरकार के निर्देशों से अवगत कराया. बाल परिवहन को लेकर आयोजित बैठक में कई प्रबंधकों ने कहा कि उनके वाहन मानक के अनुरूप हैं, लेकिन रिपोर्ट प्रशासन को नहीं दी गई है. डीटीओ ने जल्द रिपोर्ट देने को कहा है। डीटीओ ने कहा कि स्कूल बस-गाड़ियों में क्षमता से अधिक बच्चे नहीं आ रहे हैं, लेकिन निजी संचालकों के वाहनों, ऑटो, टोटो में मानक नहीं दिख रहा है. इसके लिए स्कूल प्रबंधन को उनमें पढ़ने वाले बच्चों को ले जाने वाले वाहनों के लिए एक समझौता करना चाहिए और मानक का पालन करना चाहिए। निजी ऑपरेटरों से एक बांड लेना होगा कि वे परिवहन मानदंडों का उल्लंघन नहीं करेंगे।

वाहनों पर ये चीजें रहें अंकित : DTO ने बताया कि किसी भी वाहन मालिक या परिचालक द्वारा उल्लंघन करने पर 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा और वाहन का पंजीकरण रद्द करने की कार्रवाई की जाएगी. स्कूल प्रबंधकों को वाहनों के रखरखाव आदि की जांच के लिए एक नोडल शिक्षक की प्रतिनियुक्ति करने के लिए कहा गया है। सभी वाहनों के चालकों, ड्राइविंग लाइसेंस, बसों में फायर इंस्पेक्टर, सुरक्षित कांच की खिड़कियां, प्रदूषण प्रमाण पत्र, वाहन के कागजात, सम्मान पुस्तिका, वैध बीमा पत्र की जांच करते रहें। आदि। स्कूली बच्चों को ले जाने वाले वाहनों में स्कूल का नाम, चालक का नाम और मोबाइल नंबर का भी उल्लेख होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *