बिहार सरकार ने अहमदाबाद से मंगवाई 14 हजार Remdesivir इंजेक्शन, विशेष विमान की ली मदद

डेस्क : देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन सप्लाई खत्म हो गई है। देश के मुख्यमंत्री लगातार एक ही गुहार लगा रहे हैं, कि उनके राज्य में ऑक्सीजन न के बारबार है और अन्य राज्य से मदद मिल जाए तो काफी अच्छा हो। दूसरी तरफ अन्य राज्यों का भी यही हाल है। बता दें की भारत के रिश्ते अमेरिका से काफी अच्छे हैं, बावजूद इसके अमेरिका ने रेमडेसिवर दवा के रॉ-मटेरियल देने से मना कर दिया था, लेकिन अब भारत की मदद करने के लिए UK और दुबई आगे आ गए हैं।

बिहार में भी दवाओं की किल्लत देखने को मिल रही है, ऐसे में बिहार की मदद के लिए अहमदाबाद से मदद ली जा रही है। इन दवाओं को विमान के ज़रिए मंगवाया जा रहा है। यह जानकारी मुख्यमंत्री कार्यालय के ट्विटर हैंडल से साझा की गई है। स्वास्थ्य विभाग ने पूरी जिम्मेदारी ली है की अगर कोई भी दवा इधर से उधर होती है या फिर रेमडेसिवीर संक्रमित व्यक्ति को नहीं मिलती है तो संक्रमित के परिवार से हर बात पूछी जाएगी।

फिलहाल 14000 इंजेक्शन बिहार में आने वाले है। इन इंजेक्शन के लिए विमान भी निकाला जा चुका है। इससे पहले बिहार को 24000 इंजेक्शन प्राप्त हो चुकें हैं। इस अलॉटमेंट के साथ बिहार अब 11वां राज्य बन गया है, जिसको बड़े पैमाने पर रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत है। महाराष्ट्र और गुजरात को मिलाकर 60000 से ज्यादा रेमडीसीवर इंजेक्शन पहुंचाया जा चुका है।

बता दें कि काफी समय पहले रेमडेसिविर इंजेक्शन को हेपेटाइटिस-सी और सांस संबंधी बीमारियों के लिए दिया जाता था। ऐसे में जिन लोगों को एंटीवायरल ड्रग की जरूरत होती है, उनको भी यह दवा लम्बे वक्त के लिए दी जाती है। विशेषज्ञों का कहना है कि पूर्ण बुखार में रेमडेसिविर काफी काम आ रही है। वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस दवा के इस्तेमाल को गलत बताया है। बिहार में भी दवाओं की किल्लत देखने को मिल रही है, ऐसे में बिहार की मदद के लिए अहमदाबाद से मदद ली जा रही है। इन दवाओं को विमान के ज़रिए मंगवाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.