बिहार : गंगा नदी पर 5 शानदार पुलों का हो रहा निर्माण, जानें – कब तक होगा बनकर तैयार..

डेस्क : बिहार में 5 बड़े पुलों के निर्माण में करीब 1 से 3 साल की देरी होने से इनकी निर्माण लागत करीब 24 सौ करोड़ रुपये बढ़ गयी है. ये सभी पुल गंगा नदी पर ही बन रहे हैं. इनमें कच्ची दरगाह-बिदुपुर पुल, अगवानी घाट-सुल्तानगंज पुल, राजेंद्र सेतु के समानांतर सिमरिया में रेल-सह-सड़क पुल, बख्तियारपुर-ताजपुर और बक्सर से भोजपुर के बीच में पुल बन रहे हैं.

आधिकारिक सूत्रों के हवाले से अगवानी घाट-सुल्तानगंज पुल का निर्माण 2 मई 2015 को करीब 859 करोड़ रुपये की लागत से शुरू हुआ, इसे 1 नवंबर 2019 को बनकर तैयार होना था, लेकिन इसमें काफी विलंब हुआ. इसके निर्माणकी समय सीमा बढ़ाकर 30 जून 2022 की गयी थी, लेकिन हाल ही में तेज आंधी से इस पुल का सुपर स्ट्रक्चर गिर गया था. अब इसे 30 मार्च 2023 तक बनने की संभावना है. इसकी लागत करीब 1212.8 करोड़ रुपये तक हो गई. इस पुल के बनने से उत्तर और दक्षिण बिहार के बीच की दूरी कम हो जाएगी. वहीं पुल पर आवागमन शुरू होने से सावन के समय जलाभिषेक के लिए देवघर जाने वाले कावरियों को भी काफी सुविधा होगी.

कच्ची दरगाह-बिदुपुर पर 6 लेन : कच्ची दरगाह-बिदुपुर के बीच करीब 5000 करोड़ रुपए की लागत से 6 लेन का पुल बन रहा है. 9.76 Km लंबा यह पुल केबल पर टिका हुआ बिहार का सबसे बड़ा पुल होगा. यह पुल 16 जनवरी 2017 को बनना शुरू हुआ था और इसे 2020 में बनने की समय सीमा तय हुई थी. हालांकि विलंब होने की वजह से इसे 2024 तक बनकर तैयार होने की संभावना जताई है.

सिमरिया रेल-सह-सड़क पर पुल : इसके अलावा उत्तर और दक्षिण बिहार को जोड़ने वाली महत्वपूर्ण पुल परियोजना राजेंद्र सेतु के समानांतर सिमरिया में रेल-सह-सड़क पुल का निर्माण कुल 1491 करोड़ रुपए की लागत से 2016 में शुरू हुआ था. इसे साल 2019 तक बनने की संभावना थी, लेकिन इसमें विलंब हुआ. इसे साल 2023 तक तक बनने की संभावना है. इसकी लागत करीब 2500 करोड़ रुपये तक अनुमानित है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *