दिहाड़ी मजदूर व्यक्ति के खाते में आए 9 करोड़ 99 लाख रूपए – बोला मैं तो 2 रोटी के लिए घर से निकलता हूँ

22
Bihar Majdoor get crore of money

डेस्क : बीते दिनों बिहार में रह रहे आम नागरिक और मजदूर वर्ग के साथ-साथ स्कूली बच्चों के खातों में लाखों करोड़ों रुपए आए। ऐसे में यह खबरें सोशल मीडिया और टीवी जगत पर छाई रही। बता दें कि हाल ही में एक और ऐसा मामला आया है जो बिहार के सुपौल जिले में देखने को मिला। यहाँ पर एक व्यक्ति विपिन चौहान के नाम पर 9 करोड़ 99 लाख रूपए खाते में डाले गए। ऐसे में साइबर पुलिस की टीम ने तुरंत इस खाते को फ्रीज कर दिया है। बता दें की यह मामला यूनियन बैंक ऑफ इंडिया से जुड़ा हुआ है।

इस बात का पता खुद विपिन चौहान को तब लगा जब वह मनरेगा का कार्ड बनवाने के लिए बैंक पहुंचा था। बैंक में अधिकारियों ने उसका आधार कार्ड नंबर डाला आधार कार्ड नंबर डालते ही जब बैंक अकाउंट की जानकारी निकली तो उसमें इतनी बड़ी अमाउंट देखकर अधिकारी चौक गए। ऐसे में जब विपिन चौहान से पूछताछ की गई तो उसने कहा कि मुझे इसके बारे में कुछ नहीं पता है। मैं रोजाना अपने घर से दो रोटी कमाने के लिए निकलता हूं। मजदूरी करता हूं और वापस आ जाता हूं। मैं बहुत दिनों बाद अपने बैंक में आया हूं।

जब खाते की जांच की गई तो विपिन चौहान के सिग्नेचर नहीं मिले। न ही कोई फोटो मिला। बताया जा रहा है कि यह खाता 2016 में खुलवाया गया था। इसके बाद 2017 में इस खाते से करोड़ों की ट्रांजैक्शन हो गई थी। यह सब सुनकर विपिन चौहान काफी डर गया। इस मामले पर यूनियन बैंक के मैनेजर संतोष झा का कहना है कि हमने मिलकर इस बैंक के खाते को सील करवा दिया है। फिलहाल मुंबई साइबर क्राइम टीम इस मामले पर जांच कर रही है। वही बता सकती है कि खाता किसने खुलवाया ? और किस वजह से खुलवाया?