कर्ज में डूबे पिता ने हमेशा के लिए छोरा घर और बेगूसराय शहर, KBC में बेटे के आगे अमिताभ बच्चन ने खोए पिता के लिए की भावुक अपील

15
Amitabh begusari boy talks

डेस्क : बिहार के बेगूसराय जिले से एक नौजवान जो कौन बनेगा करोड़पति के मंच पर पहुंचा उसने अपनी काबिलियत दिखाते हुए कई कंटेस्टेंट को पीछे छोड़ा और सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन के आगे आकर गुहार लगाई कि जहां कहीं भी उसके पिता चले गए हैं, वह वापस घर आ जाए। इस मार्मिक अपील को सुनते ही सबका दिल पसीज गया। इतना ही नहीं पूरे बेगूसराय में अब इसकी चर्चा बनी हुई है।

दरअसल, यह कहानी बेगूसराय शहर के लोहियानगर की है। जहां पर एक परिवार बुरी तरह से कर्ज में डूब गया था। घर के मुखिया चंद्रशेखर बीते 7 साल से घर नहीं पहुंचे हैं। आज तक किसी को नहीं पता चला कि वह कहां गायब है? उनका बेटा आज पढ़ लिख कर बड़ा हो गया है और केनरा बैंक में अधिकारी के पद पर नौकरी कर रहा है। उनके बेटे का नाम कुमार सौरभ है, बता दें कि कुमार सौरभ ने इतनी ज्यादा तरक्की कर ली कि वह आज कौन बनेगा करोड़पति के सेट पर पहुंच गए और वहां से अपने पिता के लिए गुहार लगाई।

ज्यादा जानकारी के लिए बता दें कि कुमार सौरभ ने कौन बनेगा करोड़पति के मंच पर 25,00,000 रूपए जीत लिए हैं। इतना ही नहीं उन्होंने बेगूसराय जिले का नाम रोशन किया है। जब भी यह शो होस्ट होता है तो अमिताभ बच्चन हर कंटेस्टेंट से बीच-बीच में बातचीत करते हैं, कुछ इसी प्रकार की बातचीत शुभम से अमिताभ बच्चन की शुरू हो गई। धीरे-धीरे माहौल गम में बदल गया क्योंकि सौरभ ने जिस प्रकार अपनी कहानी सुनाई उसको सुनकर अमिताभ ही नहीं बल्कि पूरे बेगूसराय वासियों की आंखों में आंसू आ गए।

कुमार सौरभ वैसे तो भागलपुर के रहने वाले हैं लेकिन उनके दादाजी बरौनी रिफाइनरी में काम किया करते थे जिसके चलते उनके पिताजी की यहां पर काफी अच्छी मित्रता थी। साल 2002 में उनके दादाजी रिटायर हो गए थे लेकिन उनके पिताजी भागलपुर में रह रहे थे और कोई काम नहीं कर रहे थे। इसके बाद उनके दोस्तों ने उन्हें नौकरी करने के लिए बेगूसराय बुला लिया, जिस दुकान पर शुभम के पिताजी नौकरी कर रहे थे उसका मालिक कर्ज में डूबा हुआ था। बात यहीं पर ख़तम नहीं होती बल्कि उस मालिक ने कई दुकान के मालिकों से उधार लिया हुआ था, जिसके बाद वह वहां से चंपत हो गया।

साल 2007 की इस घटना ने शुभम के पिता को झकझोर कर रख दिया। शुभम के पिता से जो उस दुकानदार ने कर्जा लिया था वह आज तक वापस नहीं हुआ है। उस दौरान सौरभ कोलकाता से बीटेक कर रहे थे, आखरी बार उनके पिताजी ने उनको कहा था कि अच्छे से पढ़ाई करना और अपनी माँ का ख्याल रखना। इतना कहकर उनको पिताजी ने फोन काट दिया था। उस रात को सौरव के पिताजी घर छोड़ कर चले गए और आज तक वापस नहीं आए।

एक तरफ से सौरभ को ख़ुशी है तो दूसरी तरफ उन्हें डर लगा हुआ है। वह डर में हैं क्योंकि उनका कहना है जो लोग बिना लिखे-जोखे पैसे की मांग कर रहे हैं वह वापस आ जाएंगे और पैसा मांगने लगेंगे। ऐसे में अब बेगूसराय जिले में जश्न का माहौल है, इतना ही नहीं सौरभ ने बहुत बढ़िया तरीके से कौन बनेगा करोड़पति में दिमाग का खेल खेला और सबको प्रसन्न कर दिया।