बिहार : सरकारी स्कूलों में खैनी खाने वाले शिक्षकों पर होगी कार्रवाई, सरकार ने बनाया सख्त नियम..

10
tabacco

डेस्क : शिक्षा विभाग जल्द ही सभी जिलों के डीएम, एसपी और डीईओ को निर्देश जारी करने जा रहा है। निर्देश के मुताबिक अब शिक्षा विभाग खैनी खाने वाले शिक्षकों की जांच करेगा। अगर इनके पास से तंबाकू बरामद होता है तो इनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

बिहार में शराबबंदी को सख्ती से लागू करने के लिए सरकार ने अब शराब के साथ तंबाकू के सेवन पर सख्ती से रोक लगाने का फैसला किया है। अब सरकारी स्कूलों में बच्चों के सामने खैनी खाने वाले मास्टर के खिलाफ सरकार सख्त कार्रवाई करने जा रही है. इसको लेकर राज्य सरकार ने सख्त आदेश जारी किया है।

शिक्षा विभाग ने जारी किया निर्देश : शिक्षा विभाग जल्द ही सभी जिलों के डीएम, एसपी और डीईओ को निर्देश भी जारी करने जा रहा है. निर्देश के मुताबिक अब शिक्षा विभाग खैनी खाने वाले शिक्षकों की जांच ओर तेज़ करेगा. इनके पास से तंबाकू बरामद होने पर उन्हें तत्काल निलंबित भी कर दिया जाएगा.

शिकायत मिल रही थी : बिहार में शराबबंदी के बावजूद सरकारी स्कूलों में शिक्षक बच्चों के सामने ही खैनी खा रहे हैं. शिक्षक को खैनी खाते देख बच्चों में नशीले पदार्थों की लालसा और ज्यादा पैदा हो जाती है। ऐसी कई शिकायतों के बाद सरकार ने मामले का संज्ञान लिया है। बिहार सरकार ने कड़ा फैसला लेते हुए अब बच्चों के सामने खैनी खाने वाले शिक्षकों को तत्काल निलंबित करने का प्रावधान किया है. ऐसा करते पाए जाने वाले शिक्षकों को तत्काल निलंबित कर दिया जाएगा।

स्कूलों में छापेमारी होगी : आदेश जारी होते ही डीईओ, डीपीओ से लेकर जिले के पुलिस अधिकारी कभी भी स्कूलों में छापेमारी कर सकते हैं। इसको लेकर विभाग की ओर से पूरी प्लानिंग कर ली गई है। खैनी खाते या रखते पकड़े जाने पर शिक्षकों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस से ली जाएगी मदद : सरकार के इस फैसले को देखते हुए शिक्षा विभाग ने कानून को सख्ती से लागू करने का मन बना लिया है। जल्द ही चाहुंती और खैनी के खिलाफ विशेष अभियान चलाया जाएगा। ऐसे शिक्षकों को पकड़ने के लिए शिक्षा विभाग स्थानीय पुलिस की मदद लेगा. सूचना मिलते ही स्कूलों में छापेमारी की जाएगी।

विभाग चलाएगा जागरूकता अभियान : इससे पहले विभाग जागरूकता अभियान चलाएगा, ताकि बच्चों को तंबाकू से होने वाले नुकसान के बारे में भी बताया जा सके. अब अगर कोई छात्र या अभिभावक क्लास रूम या स्कूल परिसर में कूड़ा-करकट करने वाले शिक्षकों की जानकारी देता है तो शिक्षा विभाग तत्काल कार्रवाई करेगा।