आखिर कौन होगा बिहार का नेता प्रतिपक्ष? BJP ने कर दिया खुलासा, जानें –

डेस्क : बिहार में सरकार से बाहर होने के बाद बीजेपी की चुनौती फिलहाल अभी नेता प्रतिपक्ष चुनने की है। वर्ष 2020 विधानसभा चुनाव में NDA की जीत के बाद भले ही रेणु देवी और तारकिशोर प्रसाद को पार्टी ने उप मुख्यमंत्री बनाया, विधानसभा में पार्टी नेता का जिम्मा भी तारकिशोर प्रसाद को मिला। वहीं, विधान परिषद में नवल किशोर यादव उप नेता भी बनाए गए। अब दोनों सदनों में नेता प्रतिपक्ष कौन होगा, भाजपा को फिलहाल इस चुनौती से अब पार पाना होगा। नेता विपक्ष का जिम्मेदारी तारकिशोर प्रसाद ही संभालेंगे या किसी अन्य को यह दायित्व मिलेगा, इस पर अगले एक हफ्ते में निर्णय लेना होगा। वैसे तो संवैधानिक रूप से दो ही पद हैं, विधानसभा और विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष। लेकिन, दोनों ही सदनों के सदस्यों की संयुक्त बैठकों के मद्देनजर विधानमंडल दल के नेता के चयन की भी परंपरा है।

बहरहाल, बीजेपी ने इस बदली हुई परिस्थिति को देखते हुए इन पदों पर निर्णय की कवायद भी शुरू कर दी है। झंडारोहण के अगले ही दिन 16 अगस्त को दिल्ली में भाजपा कोर कमेटी की बैठक भी बुलाई गई है। इसमें बिहार भाजपा की कोर कमेटी के सभी 20 सदस्य शामिल होंगे। माना जा रहा है कि कोर कमेटी में नामों पर मंथन के बाद केन्द्रीय नेतृत्व इस पर फैसला करेगा की वर्ष 2013 में जब जदयू ने भाजपा से किनारा कर लिया था तो तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भाजपा विधानमंडल दल तथा विधानसभा में नेता का दायित्व संभाला था। विधानसभा में वरिष्ठ विधायक नंदकिशोर यादव ने बतौर नेता विपक्ष मौर्चा संभाला था। वर्ष 2015 के चुनाव के बाद एकबार फिर जब भाजपा विपक्ष में रही तो सुशील मोदी का जिम्मा पूर्ववत ही रह गया जबकि नंदकिशोर यादव की जगह डॉ. प्रेम कुमार बिधानसभा में नेता विपक्ष बने थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *