बिहार वालों सावधान! अब नीतीश सरकार वसूलेगी डबल बिजली बिल, जानें – क्यों ?

स्मार्ट प्रीपेड बिजली मीटर वाले उपभोक्ताओं के लिए एक सतर्क होने वाली खबर है। घर में तय लोड से अधिक बिजली खपत पर फिलहाल 2गुनी राशि (मीटर फिक्स्ड चार्ज) दे रहे उपभोक्ताओं को कंपनी ने 6 महीने का समय देने का निर्णय लिया है, ताकि लोग अपनी खपत के अनुसार लोड को बढ़वा लें। इस 6 माह के बाद फिर से उन्हें दोगुनी राशि देनी होगी।

बिजली कंपनी के अधिकारियों के अनुसार घरेलू कनेक्शन में सामान्य तौर पर लोग 2-3 किलोवाट का कनेक्शन लेते हैं। इसका अर्थ यह हुआ कि एक दिन में बिजली खपत 2 हजार या 3 हजार वाट ही होनी चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की बढ़ती संख्या के कारण लोग एक समय में इससे अधिक बिजली खपत करने लग जा रहे हैं। एक से अधिक AC, हीटर, गीजर, टीवी, फ्रीज, मिक्सी, वाशिंग मशीन जैसे उपकरणों के धड़ल्ले से उपयोग के कारण औसतन सभी उपभोक्ता तय कनेक्शन से अधिक बिजली का खपत कर रहे हैं।

अधिक बिजली खपत के कारण उपभोक्ताओं को कनेक्शन के फिक्सड चार्ज का दोगुना पैसा अभी देना पड़ रहा है। पहले वाले मीटर में इसकी गणना नहीं हो पाती थी। पर अब स्मार्ट मीटर में जैसे ही तय लोड से अधिक बिजली खपत होती है, मीटर से फिक्स्ड चार्ज कट जाता है। ऐसे में लोग यह समझ नहीं पा रहे कि एक ही दिन में 100 या 200 रुपए कैसे गुल होते जा रहे हैं। स्मार्ट मीटर से कटने वाली राशि में से एक बड़ा कारण यह भी है। एक किलोवाट का फिक्स्ड चार्ज 40 रुपये तक है। बिजली कंपनी ने विनियामक आयोग के समक्ष याचिका भी दायर कर दी है। जल्द ही आयोग की तरफ से निर्णय आ जाएगा। उम्मीद है कि नवम्बर से अगले 6 महीने तक उपभोक्ताओं से 2 गुनी राशि न ली जाए।

Leave a Comment