बिहारी छात्र : ऐसे ही नहीं मिलती सरकारी नौकरी..मेहनत और जज्बा दोनो चाहिए, BPSC परीक्षा से ठीक पहले की तस्‍वीरें

42
BPSC mehanti chatr

डेस्क : सरकारी प्रतियोगी परीक्षा में बिहार के विद्यार्थियों ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। कश्मीर से कन्याकुमारी तक शायद ही कोई सरकारी पद हो जिस पर बिहार के विद्यार्थी का चयन नहीं हुआ हो। बीपीएससी की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा (पीटी) के परीक्षा से पहले जो तस्वीर आई है उससे यह साफ प्रतीत हो रहा है। दरअसल राज्य के सभी जिलों में 1083 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। रविवार को 67वीं बीपीएससी की पीटी है।

bpsc 3

परीक्षा से पहले जहां-जहां परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं वहां से ऐसे तस्वीरें सामने आई है जिसे देखकर आप भी हतप्रभ रह जाएंगे। घर से दूर परीक्षा केंद्र होने के कारण परीक्षार्थियों ने रेलवे स्टेशन, लॉज प्लेटफॉर्म और होटल के कमरों के फर्श पर सो कर रात गुजारी। बिहार लोक सेवा आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार के अनुसार 67वीं बीपीएससी के पीटी के लिए 6,02,221 अभ्यर्थी है। पटना में 83 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। लगभग 5,20,000 अभ्यर्थियों ने शनिवार को शाम तक अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड किया है। अमरेंद्र कुमार ने बताया पहली बार इतने रिकॉर्ड आवेदन आए हैं और यही कारण है कि पहली बार राज्य के 38 जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं।

bpsc 2

इस परीक्षा के तहत 802 रिक्त पदों पर उम्मीदवारों की चयन की जाएगी। इस हिसाब से औसतन प्रत्येक पद के लिए 648 अभ्यर्थी है। इस परीक्षा के लिए सारी तैयारी पूर्ण कर ली गई है और हर जिले के डीएम को सह परीक्षा संयोजक बनाया गया है। परीक्षा दोपहर 12:00 बजे से शुरू होकर 2:00 बजे तक चलेगी। परीक्षार्थियों को एक घंटा पहले परीक्षा केंद्र पहुंचना होगा। जिला प्रशासन ने परीक्षा केंद्र पर शांति बनाए रखने के लिए सभी परीक्षा केंद्रों पर धारा 144 लागू कर दिया है। अमरेंद्र कुमार ने बताया कि सभी परीक्षा केंद्रों पर आवश्यकतानुसार प्रश्न पत्र और ओएमआर शीट भेजा जा चुका है। परीक्षा केंद्रों पर आवश्यकतानुसार दंडाधिकारी और पुलिस बल की तैनाती की गई है। जिला प्रशासन को कदाचार रहित परीक्षा कराने को लेकर सख्त निर्देश दिया गया है।

bpsc one