बिहारी मजदूर की स्थिति! काम की तलाश में फिर से ट्रेन में भरकर दिल्ली-मुंबई को ओर पलायन कर रहे है..

डेस्क : बिहार इस साल बाढ़ और सूखे की दोहरी मार को झेल रहा है। हालात खराब होने से मजदूरों को काम धाम नहीं मिल पा रहा है। वे अपने परिवार के साथ दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु जैसे महानगरों की तरफ पलायन कर रहे हैं। आलम यह है कि बिहार से अन्य राज्यों में जाने वाली ट्रेनें भी फुल चल रही हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि इन मजदूरों में कुछ नाबालिग बच्चे भी शामिल हैं। इन मजदूरों को एकत्र करने का जिम्मा अब बिचौलिये ले रहे हैं और इसकी एवज में उन्हें भारी कमीशन मिल रहा है।

मंगलवार की शाम को 6 बजे बरौनी जंक्शन के प्लेटफार्म 7 से होकर गुजरने वाली गाड़ी संख्या 12577 दरभंगा-मैसूर बागमती सुपरफास्ट एक्सप्रेस में स्लीपर कोच में पांव रखने की भी जगह नहीं दिखी तो जनरल कोच की बात करनी ही बेमानी होगी। दरभंगा से खुलने वाली इस ट्रेन में मात्र 2 स्टॉपेज बाद बरौनी स्टेशन पहुंचते-पहुंचते यात्रियों की इतनी ज्यादा भीड़ बढ़ गई कि बरौनी से जनरल टिकट लेकर यात्रा करने वाले दर्जनों यात्रीगण यात्रा करने से वंचित रह गए।

त्योहार सर पर हैं, लेकिन मजदूर गांव छोड़कर शहर जा रहे : इसका सबसे मुख्य कारण है कि ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत खराब हालात हैं। हर रोज ही बड़ी संख्या में मजदूर बेंगलुरु, दिल्ली, पंजाब, सिकंदराबाद, हरियाणा, गुजरात, मुंबई आदि के लिए पलायन करते जा रहे हैं। इसी महीने के सितंबर में दुर्गा पूजा महोत्सव शुरू होने वाला है। इसके बाद दीपावली और छठ पर्व भी है। अभी कामगारों का परदेश से कमा कर घर लौटने का सिलसिला भी शुरू होने का समय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *