बिहारी ब्रेन का कमाल : ई-रिक्शा चालक बेटे का चयन ISRO के राकेट रिसर्च प्रोजेक्ट में हुआ, परिजनों में जश्न..

डेस्क : बिहार के छात्र हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे हैं। एक बार फिर किलकारी के लाल ने कमाल कर दिखाया है। बिहार बाल भवन किलकारी के विज्ञान विद्या के छात्र रहे हर्ष राजपूत का चयन ISRO के भारत के पहले RLV(री-यूजेबल लांच व्हीकल) राकेट “अटल यान” परियोजना के लिए हुआ है। इस प्रोजेक्ट के लिए पूरे भारत से साढ़े तीन हजार शोधकर्ताओं का चयन किया गया है। हर्ष की उम्र सिर्फ 16 वर्ष है और वो 11वीं कक्षा के विज्ञान के छात्र हैं। शोधकर्ताओं में हर्ष सबसे कम उम्र के हैं। DRDO और ISRO ने अटल यान आर्बिटएक्स इंडिया एरोस्पेस कंपनी को राकेट बनाने का काम दिया है। बिहार बाल भवन किलकारी प्रदेश सरकार द्वारा संचालित है। यहां साधनविहीन छात्रों को अवसर प्रदान किया जाता है, जो नवाचार में रुचि रखते हैं।

अटल यान एक पुन : प्रयोज्य दो चरणों वाला राकेट बनेगा। इसे Orbit X द्वारा डिजाइन और निर्मित किया जाना है। यह कंपनी ISRO और DRDO से जुड़ी है। हर्ष राजपूत को अटल यान के एयर ब्रिदिंग सिस्टम रिसर्च बोर्ड में काम करने का मौका भी मिलेगा। हर्ष राजपूत ने बताया कि यह वायु श्वास प्रणाली है। एक वायु-श्वास राकेट इंजन लगभग आधी उड़ान के लिए हवा से आक्सीजन लेता है। अटल यान परियोजना 6 बोर्डों में विभाजित है। प्रत्येक बोर्ड के लिए, एक मेंटर शोधकर्ता और एक सहायक निदेशक भी रखे गए हैं, जो शोधकर्ताओं का मार्गदर्शन करते रहेंगे।

3 महीने की इंटर्नशिप कर चुके हैं हर्ष : हर्ष राजपूत अटल यान के एयर ब्रिदिंग सिस्टम रिसर्च बोर्ड में 3 महीने की इंटर्नशिप पूरी कर चुके हैं। इन्हें Orbit X से इंटर्नशिप का प्रमाणपत्र और शोधकर्ता का प्रमाणपत्र भी मिला है। उसी दौरान इनकी प्रतिभा को ISRO के विज्ञानियों ने पहचाना था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *