पहले पिटाई..फिर सुनवाई..अब BPSC अभ्यर्थियों की समस्या पर CM ने की बैठक..

डेस्क : कल बुधवार को, दो पाली में परीक्षा और परसेंटाइल सिस्टम का विरोध कर रहे छात्रों पर पुलिस प्रशासन ने खूब लाठियां भाजी. बेहद शांतिपूर्ण तरीके से अपनी बातों को रखने के लिए जा रहे छात्रों को पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा. इसके बाद पुलिस की कार्यवाही पर सवाल उठने लगे. शिक्षक अभ्यर्थियों की पिटाई की तरह ही यह मामला तूल पकड़े उससे पहले सरकार एक्शन में आ गई है और खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसपर संज्ञान लेकर गुरुवार को पूरे मामले की जानकारी लेने और आगे के निर्णय लेने के लिए अपने मुख्य सचिव की बैठक बुलायी है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने छात्रों की समस्या के समाधान के लिए मुख्य सचिव और पदाधिकारियों की बैठक भी बुलाई है. बैठक में BPSC अभ्यर्थियों की समस्या पर भी विचार किया जाएगा.अभ्यर्थियों की मांगे कितनी जायज है इसे लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अधिकारियों से विचार विमर्श भी करेंगे.

खेल के बीच नियम बदलने का हैं आरोप : दरअसल बिहार में BPSC के अभ्यर्थी PT परीक्षा में परसेंटाइल सिस्टम लागू करने और दो पाली में परीक्षा लेने के निर्णय का विरोध कर रहे हैं. BPSC ने पैटर्न में बदलाव कर दो पाली में परीक्षा को आयोजित करने की घोषणा भी की है. इसके बाद छात्रों का कहना है कि यह खेल के बीच में नियम के बदलने जैसा है. जब दूसरे एग्जाम जिसमें BPSC से ज्यादा छात्र शामिल होते हैं उसे एक पाली में ही कराया जा सकता है तो यह परीक्षा क्यों नहीं. छात्रों का यह आरोप है कि दो पाली में परीक्षा दिलाने से परीक्षा में धांधली की संभावना ज्यादा है.

67वीं BPSC की प्री परीक्षा पेपर लीक होने के बाद अब दोबारा 20 और 22 सितंबर, 2022 को परीक्षा ली जा रही है. नये नियम के अनुसार अब यह परीक्षा दो दिन की होगी जिसमें प्रारंभिक परीक्षा में परसेंटाइल के आधार पर नम्बर देने का निर्णय लिया गया है. जिसका छात्र विरोध भी कर रहे हैं. उनका कहना है कि परसेंटाइल का स्कोर परसेंटेज स्कोर के समान नहीं होता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *