ट्रेन में यात्रा के दौरान सामान चोरी होने पर मिलेगा मुआवजा, जानिए यह नियम

न्यूज़ डेस्क : रेलवे यात्रियों के लिए खास खबर है। भारतीय रेलवे के कुछ बेहतरीन नियम हैं जिसकी जानकारी आपको होना बेहद जरूरी है। परंतु अधिखतर यात्रियों को इन नियमों की जानकारी नहीं होती है। आपके जानकारी के लिए बतादें कि यदि यात्रा के दौरान आपका सामान चोरी हो जाता है तो आपको उक्त समान का उचित मुआवजा देने की रेलवे में प्रावधान है।

चोरी के तुरंत बाद अपने सामान के लिए मुआवजे का दावा कर सकते हैं। मालूम हो कि नियम के तहत आपका सामान 6 माह के भीतर नहीं मिला तो तो आप उपभोक्ता फोरम में भी जा सकते हैं। इसी प्रकार कई नियम हैं जिनके बारे में आपको जानना जरूरी है। अगर आप इन नियमों के बारे में जानते हैं तो यात्रा के दौरान आपको कोई परेशानी नहीं होगी।

समान की चोरी के लिए मुआवजा

सुप्रीम कोर्ट के नियम के मुताबिक अगर ट्रेन में सफर के दौरान आपका सामान चोरी हो जाता है तो आप आरपीएफ थाने में जाकर शिकायत दर्ज करा सकते हैं। वहीं आप एक फॉर्म भी भरें। इसमें लिखा है कि अगर आपका माल 6 महीने से नहीं मिलता है तो आप उपभोक्ता फोरम में भी शिकायत करें। साथ ही समान की कीमत का अनुमान लगाकर रेलवे उसका मुआवजा देता है।

ऐसी स्थिति में भरना होगा जुर्माना

अगर आपके पास यात्रा के दौरान टिकट नहीं है तो आपके खिलाफ रेलवे एक्ट की धारा 138 के तहत सख्त कार्रवाई की जा सकती है। इस सेक्शन के तहत आपके द्वारा तय की गई दूरी के लिए रेलवे से तय साधारण किराया या उस स्टेशन से तय की गई दूरी का तय साधारण किराया जहां से ट्रेन छूटी है और 250 रुपये का जुर्माना भी लिया जा सकता है। अगर आपके पास लोअर क्लास का टिकट है तो किराए के अंतर से भी शुल्क लिया जाएगा।

मुकदमा किया जाएगा

अगर कोई यात्री टिकट के साथ छेड़छाड़ करते हुए यात्रा करते पकड़ा जाता है तो उसके खिलाफ रेलवे की धारा 137 के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। इसमें यात्री को 6 महीने की कैद, 1000 रुपये जुर्माना या दोनों से दंडित किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.