कोरोना काल में छूट गई थी नौकरी, अब तक 12 लोगों को दे दिया रोजगार और कई हैं कतार में – पढ़िए सौरभ के संघर्ष की कहानी

24
Bihar startup story small business
Bihar startup story small business

डेस्क : कोरोना काल की वजह से लोगों को काफी परेशानी हुई और इस परेशानी के चलते उनको काफी पारिवारिक दिक्कतें झेलनी पड़ी। कई लोग हैं जो अभी भी आर्थिक तंगी झेल रहे हैं। किसी का हौसला बिलकुल ख़त्म हो चुका है तो कोई अपने हौसले से अभी तक लोगों को उदाहरण देते नजर आ रहे हैं। कुछ ऐसा ही तब हुआ जब बिहार के जमुई जिले सहूर गाँव के रहने वाले सौरभ कुमार की नौकरी चली गई।

जब उनकी नौकरी खतरे में पड़ गई थी तब ही उन्होंने सोच लिया था की कुछ ऐसा करना होगा जिससे गुजर बसर वापस से करी जा सके। इसके बाद उन्होंने फैक्ट्री खोल ली, और अब करीब दर्जन भर से ज्यादा मजदूर उनकी फैक्ट्री में काम कर रहे हैं। सौरभ का कहना है की उनको प्रधान मंत्री योजना का लाभ मिला है जिसके चलते उन्होंने फैक्ट्री लगाई है। कोरोना से पहले सौरभ एक निजी कंपनी में काम करते थे, फिर उन्होंने हिम्मत दिखाई और खुद की टाइल्स की फैक्ट्री लगाई, जैसे जैसे समय बीतता गया वैसे ही काम आगे बढ़ता चला गया।

आज के समय में दर्जनों मजदूरों से उनकी फैक्ट्री भरी रहती है। वह मार्केटिंग का कार्य करते थे। उन्होंने दिल्ली, पटना समेत कई अन्य शहरों में काम किया हुआ है और उनको अच्छा ख़ासा अनुभव है। वह जब गाँव वापस लौट गए थे तो सोशल मीडिया पर यह ढूंढने लगे की आखिर कैसे अपना काम किया जाए फिर उन्होंने प्रधानमंत्री की आत्मनिर्भर योजना का पता लगा और अपनी फैक्ट्री डाल ली। अब कई ऐसे मजदूर जो हिमाचल और पंजाब जाकर काम करते थे, उनके प्रदेश में रहते हुए ही काम मिल गया।