प्रेग्नेंट होने के बावजूद बिना थके पास की UPSC परीक्षा – जब साँसे फूल जाती थी तो पति किताब पढ़ाते थे

Padmini Ias officer

डेस्क : जब महिलाओं की शादी हो जाती है तो लोग ऐसा सोचते हैं कि अब वह घर के कामकाज में लग जाएंगी क्योंकि उनको ज्यादा समय नहीं मिलेगा। समाज में कुछ ऐसी भी महिलाएं भी हैं जो शादी के बाद अपने ससुराल को संभालती हैं और अपने निजी जीवन को भी सवारती हैं। कुछ ऐसा ही करके दिखाया है पद्मिनी नारायण ने जिन्होंने यूपीएससी 2019 की परीक्षा में 152वी रैंक हासिल की है।

जब पद्मिनी नारायण यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहीं थी तब वह प्रेग्नेंट हो गईं थी। वह सारा काम करती थी और जब वक्त मिलता था तो पढ़ाई करती थी। ऐसे में उन्होंने पढ़ाई बहुत ही कठिन परिस्थितियों में की है जब वह पढ़ते पढ़ते थक जाती थी तो उनके पति उनको किताब पढ़ कर सुनाया करते थे। जब पद्मिनी ने अपनी तैयारी शुरू की तो उन्होंने घरवालों से एक रुपया भी नहीं लिया। वह अन्य बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर पैसे कमाती थी, हालांकि उनके घर की स्थिति ठीक थी लेकिन उनको घरवालों से पैसा लेना रास नहीं आता था।

padmini

पद्मिनी नारायण की शुरुआती शिक्षा दिल्ली से हुई है। उन्होंने इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन पूरा किया है और अपने कॉलेज में मेरिट लिस्ट में नाम दर्ज करवाया है। शुरुआती समय में उन्होंने बैंक मैनेजर के पद पर काम किया था, जब वह बैंक में काम करती थी तो उनके अंदर इच्छा थी की उनको सिविल सेवा में जाना चाहिए। उनके घर वालों ने भी उनको सिविल सेवा में जाने के लिए प्रेरित किया था।

पद्मिनी नारायण जब बैंक में काम करने जाती थी तो वह आने-जाने के रास्ते में पढ़ाई किया किया करती थी। इस दौरान उनको पढ़ाई के लिए समय निकालना काफी कठिन लगता था जिसके चलते उन्होंने नौकरी छोड़ दी और फुल टाइम घर पर रहकर तैयारी करने लगी। इस फैसले में उनके घर वालों ने उनका खूब साथ दिया। जब उन्होंने घर जाके तैयारी की तो वह यह जानकर हैरान रह गए कि वह प्रेग्नेंट है। ऐसे में उन्हें चिंता सताने लगी कि अब क्या करेंगे, तब उनके पति ने उनका हौसला बढ़ाया और कहा कि तुम सिर्फ पढ़ाई पर फोकस करो।

इसके बाद पद्मिनी नारायण ने अपने पति की बात मानी और उन्होंने पढ़ाई पर ध्यान लगाया। वह साल 2019 की परीक्षा में प्री, मेंस और इंटरव्यू क्वालीफाई कर लिया। पद्मिनी नारायण ने दिखा दिया कि औरतें यदि कुछ ठान ले तो वह जिंदगी में तो वह सब कुछ कर सकती हैं चाहे कितनी भी कठिन परिस्थितियां आ जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

UPSC टॉपर शुभम की कहानी, 6 साल की उम्र में घर छोड़ा, 12वीं में देखा था IAS बनने का सपना मिलिए जागृति से,जानिए कैसे बनीं वो UPSC के महिला वर्ग में देशभर की टॉपर Divya Aggarwal ने जीता BigBossOTT-जानें ट्रॉफी के साथ कितना मिला कैश ? Jio अब बजट रेंज में लॉन्च करेगा लैपटॉप, ये होंगे कीमत और Features Airtel vs Vi vs Jio : जानें 600 रुपये से कम वाला किसका रिचार्ज प्‍लान सबसे बेस्‍ट