बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडे का नया रूप – लंदन जाकर बने इंटरनेशनल कथावाचक..

बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय अब एक नए अवतार में लोगो के सामने आ रहे हैं, गुप्तेश्वर पांडे अपने पद से सेवानिवृत्त होने के बाद अब अंतराष्ट्रीय कथावाचक बन गए हैं। एक निजी टीवी चैनल से बात करते हुए उन्होंने खुद कहा कि वो लगभग 10 देशों में कथाएं बाच रहे हैं। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म की ध्वजा को पूरी बाबा बनने के सवाल पर बिहार के पूर्व डीजीपी ने कहा कि मैं जन्मजात बाब हूं। ब्राह्मण के घर में पैदा हुआ हूं। मेरे दादा-दादी, मां-बाप अनपढ़ थे। अपने खानदान में मैं पहला व्यक्ति हूं, जो आठ साल की उम्र में स्कूल गया।

उन्होंने कहा कि बिहार को मैंने बहुत पहले छोड़ दिया है, अब मैं अयोध्या में रहता हूं। रिक्शा-टेंपो पर कोई भी मुझे देख सकता है। में फहराना है। प्रधानमंत्री मोदी पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में DGP पांडेय ने कहा कि मैं व्यक्तिगत रूप से प्रधानमंत्री मोदी का प्रशंसक हूं। वो भारत देश की शान हैं। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद वहां भी विकास हो रहा है।

राजनीति में जाने के सवाल पर DGP पांडेय ने कहा कि मुझमें राजनीति में जाने वाले गुण नहीं हैं। अगर ये गुण होते तो मैं राजनीति में ही होता। राजनेता लोग महान होते हैं। उनके अंदर त्याग, तपस्या, शील जैसे महान गुण उपस्थित हैं। ये सारे गुण मेरे अंदर नहीं हैं, इसलिए मैं भगवान की शरण में आ गया हूँ और आकर मैं बहुत खुश हूं।

कथावाचक बाबा बनने के सवाल पर बिहार के पूर्व DGP ने कहा कि मैं जन्मजात बाबा हूं। एक ब्राह्मण के घर में पैदा हुआ हूं। मेरे दादा-दादी, मां-बाप सब अनपढ़ थे। अपने खानदान में मैं पहला व्यक्ति हूं, जो 8 साल की उम्र में स्कूल गया। उन्होंने कहा कि बिहार को मैंने बहुत पहले ही छोड़ दिया है, अब मैं अयोध्या में ही रहता हूं। रिक्शा-टेंपो आदि पर कोई भी मुझे देख सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.