1 पैर से 300Km की कांवड़ यात्रा पर निकला दिव्यांग भक्त, लोग ने कहा – नहीं देखी ऐसी अटूट श्रद्धा..

श्रावण मास में भक्त कांवड़ियों की भारी भीड़ भोले बाबा के दर्शन के लिए मंदिर जाती है। लेकिन इस बार इन्हीं कांवड़ियों में एक ऐसा दिव्यांग कांवड़िया भी दिखा जो एक पैर से गोमुख से सोनीपत हरिणाया करीब 300 किलोमीटर की कांवड़ यात्रा पर निकला है। इसे देखकर आपका भगवान शंकर पर विश्वास और भी ज्यादा बढ़ जाएगा। यह शिवभक्त कांवड़िया गौमुख से गंगा जल लेकर अपने गंतव्य की ओर बढ़ रहा है, जो अभी तक करीब 200 किलोमीटर का सफर कर चुका है। इस भोले को देख हर कोई हैरान है। दिव्यांग पवन दुर्गम पहाड़ियों से होते हुए पैदल चलकर भगवान शंकर की भक्ति में लीन होकर शिवलिंग पर जल चढ़ाने के लिए निकल पड़ा है।

जानकारी के लिए बता दें कि उत्तर भारत के तमाम हाईवे शिवभक्त कावड़ियों की आस्था की डगर बन रहे हैं। अनेक प्रकार की रंग-बिरंगी कांवड़ लोगों के आर्कषण का केंद्र बनी हुई हैं। उसी तरह कई शिवभक्त भोले ऐसे भी देखे गए हैं, जो अपने सामर्थ्य से ज्यादा हौसले के साथ अपने लक्ष्य की ओर बढ़ रहे हैं। ऐसा ही कुछ मुजफ्फरनगर में उस समय देखने को मिला जब हरियाणा के सोनीपत का रहने वाला एक दिव्यांग कांवड़िया पवन वहां पहुंचा। दिव्यांग पवन ने बताया कि वह उत्तराखंड के गोमुख से जहां मां गंगा प्रकट हो रही हैं, वहां से जल भरकर सोनीपत अपने गांव की ओर जा रहा है।

गौरतलब है कि पवन ने अपनी इस हालत का जिक्र करते हुए बताया कि एक हादसे में वह बुरी तरह जल गया था और डॉक्टरों को उसकी एक टांग काटनी पड़ी थी। इसके साथ ही पवन कुमार ने बताया कि वह 14 साल से कावंड़ ला रहा है और टांग कटने के बाद 5 साल से लगातार कांवड़ लेकर आ रहा है। हालांकि इस बीच पवन जब मुजफ्फरनगर से गुजरा तो हर कोई उसके इस जज्बे और अटूट श्रद्धा को देख हैरान रह गया। जिसके बाद लोगों ने उसके वीडियो बनाए जो सोशल मीडिया पर वायरल जमकर वायरल हो रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *