अनोखा डॉक्टर जो 12 साल तक जेल में गुजारी अपनी जिंदगी, LLB कर खुद लड़ा अपना केस, लिख डालीं 186 किताबें..

12
doctor studies llb in jail

डेस्क : वैसे आपने कई ऐसे डॉक्टरों के बारे में अजब गजब बातें सुनी होंगी. लेकिन केरल के पालघाट के एक हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. एल. प्रकाश ऐसे अकेले व्यक्ति हैं जिन्होंने विदेश में उच्च चिकित्सा शिक्षा ली और अपनी सेवाएं दीं। लेकिन किसी कारणवश वह 12 साल से अधिक समय तक जेल में रहे।

लेकिन जेल में रहने के दौरान भी उन्होंने कई अनोखे काम कर डाले। डॉ. एल प्रकाश ने 17 मेडिकल और 142 नॉन-मेडिकल किताबें भी लिखीं। वह 27 चिकित्सा पुस्तकों के सह-लेखक भी हैं। इतना ही नहीं डॉ साहब की अंग्रेजी, हिंदी के अलावा कई भाषाओं पर अच्छी खासी पकड़ है। वह लंबे समय तक मध्य प्रदेश में रहे। इतना ही नहीं वे जादू भी जानते हैं। लेकिन अब वह केरल के पालघाट में रहते हैं। डॉ. प्रकाश ने जेल में रहने के दौरान भी पीड़ितों का इलाज करना बंद नहीं किया, लेकिन इलाज का कोई साधन तो नहीं था।

doctor who fought his own case

इसके बावजूद वह जेल में रह रहे कैदियों की मदद करते रहे । उन्होंने जेल में रहते हुए भी आविष्कार किया। उदाहरण के लिए, बिना किसी साधन के टूटी हुई हड्डी का इलाज कैसे किया जाता है? बाद में उनके इस आविष्कार को प्रकाश पद्धति के नाम से जाना जाने लगा। इतना ही नहीं अपना केस लड़ने के लिए उन्होंने खुद पढ़ाई की और लॉ की डिग्री हासिल की और अपना केस भी खुद लड़ा। उसे लगा कि जेल से छूटने के बाद अब उसके पास मरीज नहीं आएंगे। लेकिन घर पहुंचने पर मरीजों की भीड़ देखकर वह हैरान रह गए। हालांकि, फिलहाल वह गिने-चुने मरीजों को ही देखते हैं। यह जानकारी पाठकों की डिमांड पर तैयार की गई है, इसका किसी व्यक्ति विशेष से कोई संबंध नहीं है।