7 बहनों ने किया कमाल – पिता ने आटाचक्की चलाकर पढ़ाया, सभी बहनों ने अफसर बन बढ़ाया पिता का मान..

9
bihar sisters

डेस्क : बिहार की राजधानी पटना से करीब 70 किमी दूर सारण जिले के ग्राम एकमा के राजकुमार सिंह का परिवार कमजोर आर्थिक स्थिति के बावजूद राजकुमार सिंह ने सातों बेटियों को पढ़-लिखकर सक्षम बनाया और नतीजा हम सबके सामने है।

7 sisters ka kamaal

7 बहनों ने अधिकारी बनकर अपने पिता का सम्मान किया और इन्हीं में से एक बहन राजीव कुमार सिंह ने अपनी सात बहनों की सफलता की पूरी कहानी सुनाई। राजीव इकलौता भाई है। उनकी चार बहनें बिहार पुलिस में कांस्टेबल हैं, बाकी तीन बहनें बिहार आबकारी, एसएसबी और सीआरपीएफ में कार्यरत हैं। दो साले भी सरकारी नौकरी में हैं। राजकुमार सिंह की शादी शारदा देवी से हुई थी। उनसे आठ बेटियां और एक बेटा राजीव सिंह पैदा हुए। नीतू देवी से शादी करने वाली सबसे बड़ी बेटी की 2008 में ब्रेन हेमरेज से मौत हो गई थी। अन्य सभी बेटियां सफल रहीं। बेटा राजीव भी सरकारी नौकरी की तैयारी में लगा है।

bhar proud girls

रानी देवी, कांस्टेबल बिहार पुलिस : दूसरे नंबर की बेटी रानी देवी बिहार पुलिस में सिपाही है। फिलहाल जमुई में तैनात हैं। बीए तक शिक्षित रानी देवी ने शादी के बाद तैयारी शुरू की और दो बच्चों का जन्म हुआ और बिहार पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा 2009 में उनका चयन हो गया, लेकिन भर्ती अटक जाने के कारण वह वर्ष 2021 में शामिल हो गईं। उनके पति नीरज शिवन में ट्रांसपोर्ट का काम करते हैं।

1 2

रेणु कुमारी, एसएसबी कांस्टेबल : रेणु कुमारी वर्तमान में नेपाल सीमा पर महराजगंज गोरखपुर में एसएसबी कांस्टेबल के पद पर कार्यरत हैं। बीए तक की पढ़ाई की उनका चयन वर्ष 2008 में एसएसबी में हुआ था। पति मंटू कुमार सिंह भी एसएसबी में कांस्टेबल हैं। महराजगंज गोरखपुर में ही तैनात है। ये जलालपुर शिवन बिहार के रहने वाले हैं।

2

सोनी कुमारी सिंह, सीआरपीएफ, दिल्ली : सोनी ने भी अपनी बड़ी बहनों के नक्शेकदम पर चलते हुए वर्ष 2011 में सीआरपीएफ ज्वाइन की। वर्तमान में दिल्ली में तैनात हैं। उन्होंने बीए तक की पढ़ाई भी की है। पति रंजन कुमार सिंह भी सीआरपीएफ कांस्टेबल हैं।

3

कुमारी प्रीति सिंह, कांस्टेबल बिहार पुलिस : प्रीति सिंह अविवाहित हैं। वह वर्ष 2015 में बिहार पुलिस में भर्ती हुई थी। बीसीए तक की पढ़ाई की। वर्तमान में बिहार के अरवल में crime branch में कार्यरत हैं।

4

कुमारी पिंकी सिंह, आबकारी बिहार : बड़ी बहनों की तरह पिंकी सिंह भी सफल हुईं। वह वर्ष 2016 में बिहार आबकारी विभाग में चयन प्राप्त करने में सफल रही। वर्तमान में शिवन में तैनात है। वह अब पीजी भी कर रही है।

5

कुमारी रिंकी सिंह, कांस्टेबल बिहार पुलिस : रिंकी सिंह का बिहार पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा 2018 में चयन हुआ है। वर्तमान में एसपी कार्यालय में कार्यरत हैं और नौकरी के साथ पीजी कर रहे हैं।

7

नन्ही सिंह, जीआरपी पटना : सबसे छोटी बेटी नन्ही सिंह ने बड़ी बहनों की तरह सफलता की नई कहानी लिखी। साल 2018 में इसका चयन बिहार पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में भी हुआ था. वर्तमान में जीआरपी पटना में कार्यरत हैं। सभी बहनों ने जयप्रकाश विश्वविद्यालय छपरा से शिक्षा प्राप्त की है।

8

राजीव कहते हैं कि जब बेटियां पैदा हुईं तो उनके माता-पिता को रिश्तेदारों और पड़ोसियों के ताने सुनने को मिले। जब रिंकी और पिंकी के जुड़वां बच्चे पैदा हुए तो लोगों ने कहा कि इतनी बेटियां हैं कि उन्हें देखकर हरा पेड़ भी मुरझा जाए। उनके पास चार बीघा पुश्तैनी जमीन थी, जिस पर उन्होंने खेती के बाद भी अपनी बेटियों को पाला और पढ़ाया। बेटियों को नौकरी मिलने लगी तो पिता का सीना भी गर्व से चौड़ा हो गया। अब आटा चक्की के साथ तेल और चावल की मिल भी लग गई।