मिलिए, बिहार के दूसरे दशरथ मांझी से, महादेव तक पहुंचने के लिए बना दी 1500 फीट ऊंचे पहाड़ तक सीढ़ियां..

8
ganauri paswan bihar second mountain man

डेस्क : बिहार के जहानाबाद के गिनौरी पासवान ने अपनी पत्नी के साथ भगवान शंकर की पूजा करने के लिए पहाड़ का सीना ही काट दिया। पर्वतारोही दशरथ मांझी को अपना आदर्श मानने वाले गिन्नौरी पासवान ने आठ साल में मंदिर तक पहुंचने के लिए 400 सीढ़ियां बनाईं थी।

ganauri paswan

अपनी पत्नी के लिए पहाड़ के दिल से रास्ता बनाने वाले दशरथ मांझी को पूरी दुनिया जानती है। गनौरी पासवान ने उन्हीं के बताए रास्ते पर चलकर अपनी पत्नी के साथ विश्वास के साथ छेनी-हथौड़े से चट्टान को काट डाला और 1500 फीट ऊंचे पहाड़ की चोटी पर सीढ़ियां बना दी। पहाड़ पर योगेश्वर नाथ का मंदिर है, जिस तक पहुंचना अब दो तरफ से काफी आसान हो गया है। मांझी को अपना आदर्श मानने वाले पासवान ने आठ साल में करीब 400 सीढ़ियां बनाईं। परिवार के साथ मिलकर गनौरी पासवान ने यह मिसाल कायम की है।

ganauri paswan 2

गनौरी पासवान ने पहाड़ काटकर बनाई सीढ़ी : जारू बनवारिया गांव के पास एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित बाबा योगेश्वर नाथ मंदिर में गणौरी भजन कीर्तन के लिए जाते थे। घंटों की मशक्कत के बाद वे वहां पहुंच पाते थे। कभी-कभी वे कांटों और नुकीले पत्थरों से घायल भी हो जाते थे। महिलाओं का पहुंचना काफी मुश्किल था। यह देखकर गनौरी पासवान ने बाबा योगेश्वर नाथ धाम तक का रास्ता आसान करने का फैसला किया। पहाड़ के पत्थर काट कर सीढ़ियां बनाने लगे। मंदिर तक पहुंचने के लिए एक नहीं बल्कि दो रास्ते बनाए गए थे। एक रास्ता जारू गांव की तरफ से और दूसरा बनवारिया गांव की तरफ से बनाया गया है. लोगों के सहयोग और अपने पूरे परिवार के श्रमदान से लगभग आठ वर्षों में पूरा हुआ।

ganauri paswan 3

गनौरी पहले एक ट्रक ड्राइवर थे : गनौरी पासवान कभी ट्रक ड्राइवर हुआ करते थे। छुट्टियों में घर आने पर उनकी लोक संगीत और गायन में गहरी रुचि थी। जारू, गांव के गाना बजानेवालों के साथ, भजन कीर्तन के लिए बनवारिया गांव के पास पहाड़ी पर स्थित बाबा योगेश्वर नाथ मंदिर जाते थे। लोग कड़ी मेहनत से वहां पहुंच सके। फिर उन्होंने मन में संकल्प लिया कि वह बाबा योगेश्वर नाथ धाम की यात्रा को किसी भी कीमत पर आसान बना देंगे। यहां से उन्होंने पत्थर काटकर सीढ़ियां बनाना शुरू किया।

ganauri paswan 4

पुरानी मूर्तियों को भी खोजें : गांव वाले बताते हैं कि गनौरी पासवान की एक और खासियत है। पहाड़ की तलहटी में जाकर वे पुरानी मूर्तियों की भी खोज करते हैं। फिर उन मूर्तियों को योगेश्वर नाथ मंदिर के रास्ते में स्थापित कर दिया जाता है। काले पत्थर की भगवान बुद्ध की छह फीट की विशाल मूर्ति भी मिली थी, जिसका उल्लेख इतिहास के पन्नों में दर्ज है। गनौरी पासवान का कहना है कि उन्हें नहीं पता कि उन्हें इतनी शक्ति कहां से मिलती है कि वह छेनी के हथौड़े से दिन-रात पहाड़ों में खो जाते हैं। अब एक ही संकल्प है कि मैं योगेश्वर नाथ मंदिर को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने में शामिल होऊं। इस काम में पत्नी और बेटे का पूरा सहयोग मिल रहा है।

ganauri paswan newspaper