सरकार लाइ दो-तरफा पेंशन योजना, बुढ़ापे में मिलेगी खूब सुविधा – जानें

22
old age pension

डेस्क : अगर आप रिटायरमेंट के बाद एक निश्चित रकम चाहते हैं तो आपको पेंशन प्लान की जरूरत होनी चाहिए, नहीं तो बढ़ती महंगाई के सामने मुश्किलें बढ़ सकती हैं। यहां हम आपको दो ऐसी योजनाओं के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके लिए आप अपना खुद का पेंशन प्लान चुन सकते हैं। ये हैं अटल पेंशन योजना और राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली। जो दोनों सरकारी योजनाएं हैं।

यह योजना सरकारी कर्मचारियों के लिए 2004 में शुरू की गई थी लेकिन 2009 में इसे निजी कर्मचारियों के लिए भी खोल दिया गया था। यह आपको एक निश्चित अवधि के लिए एक निश्चित राशि का निवेश करने की अनुमति देता है। यह 18 से 55 वर्ष की आयु के लोगों पर लागू होता है। इसे भारत के नागरिक और एनआरआई ले सकते हैं।पेंशन के संदर्भ में, यह एक निश्चित गारंटी पेंशन योजना नहीं है क्योंकि यह बाजार से जुड़ी हुई है। सरकारी प्रतिभूतियों, निश्चित आय प्रतिभूतियों, गैर-सरकारी प्रतिभूतियों के अलावा, यह इक्विटी में भी निवेश करता है।

क्या है एनपीएस सिस्टम? एनपीएस में दो तरह के खाते होते हैं। नाम टियर 1 और टियर 2। दोनों में अंतर यह है कि 60 साल पुराने टियर 1 खाते से पैसा नहीं निकाला जा सकता है। आप बचत खाते की तरह ही टियर 2 खाते से पैसे निकाल सकते हैं।

एनपीएस से खास बातचीत : एनपीएस की खास शर्त के मुताबिक कम से कम 40 फीसदी एन्युटी लेना जरूरी है और यह रुपये जितना ज्यादा होगा। उतनी ही पेंशन की राशि भी अधिक होगी।

अटल पेंशन योजना प्रणाली को समझें : अटल पेंशन योजना असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए शुरू की गई थी और इसमें 60 वर्ष की आयु के बाद पेंशन की एक निश्चित राशि शामिल है। अटल पेंशन योजना में केवल भारत के निवासी ही निवेश कर सकते हैं। इसके धारक या ग्राहक अपने योगदान के आधार पर पेंशन की राशि चुन सकते हैं जो 1000 रुपये से लेकर 5000 रुपये तक हो सकती है।

अटल पेंशन योजना की खास बात : अटल पेंशन योजना की एक खास बात यह है कि आप इसे मैच्योरिटी से पहले वहन नहीं कर सकते। 60 साल की उम्र से पहले खाते को बंद करने का प्रावधान है लेकिन 60 साल से पहले इसमें से पैसे नहीं निकाल सकते हैं। हालांकि, ग्राहकों की मृत्यु के बाद मैच्योरिटी से पहले पैसा निकाला जा सकता है।