NCRB Report : बिहार महिलाओं के लिए आखिर कितना सुरक्षित? यूपी- बंगाल से तुलना करने पर सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े..

डेस्क : बिहार की अपेक्षा यूपी, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, राजस्थान, ओडिसा, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र एवं असम में महिलाओं के विरुद्ध अपराध अधिक मात्रा में व्याप्त हैं। बिहार में महिलाओं के विरुद्ध अपराध राष्ट्रीय औसत के आधे से भी कम है। NCRB की 2021 की रिपोर्ट इस तरफ संकेत करती है। इस नई रिपोर्ट के अनुसार, महिलाओं के विरुद्ध अपराध दर का राष्ट्रीय औसत कुल 64.5 प्रतिशत है, जबकि बिहार में यह दर आधी से भी कम 30.2 फीसदी हैं।

बिहार में साल 2020 की तुलना में देखे तो दहेज हत्या, दुष्कर्म, दुष्कर्म के प्रयास और छेड़खानी की घटनाओं में भी कमी दर्ज की गयी है। महिलाओं के विरुद्ध होने वाले कुल कांडों में बिहार का 9 वां स्थान है। इसके अलावा बिहार में हत्या, फिरौती के लिए किडनैपिंग, दंगा-फसाद समेत बड़ी आपराधिक घटनाओं के मामले में भी कमी आई है। NCRB की रिपोर्ट के अनुसार, साल 2020 में प्रति लाख जनसंख्या के आधार पर हत्या के मामले में बिहार का 8 वा स्थान था जो साल 2021 में 12वां हो गया है।

डकैती के मामले में साल 2020 में बिहार का स्थान 11वां था जो साल 2021 में 12वां हो गया है। फिरौती के लिए अपहरण मामले में साल 2020 में बिहार 12वें स्थान पर था जबकि साल 2021 में 22वां स्थान है। दंगा-फसाद के मामले में 3 स्थान था जो साल 2021 में छठा हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *