बंगाल की चुनावी रैली में पीएम मोदी ने किया किशनगंज के शहीद दरोगा का ज़िक्र, बोले जांबाज़ और ईमानदार थे

Ashwin Kumar Inspector died in mob lynching

डेस्क : पश्चिम बंगाल की जनता का दिल जीतने के लिए भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी अनेकों रैलियां कर चुकें हैं, जिसमें से एक रैली जो बर्धमान में आयोजित की गई थी उसमें पीएम नरेंद्र मोदी ने इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार का ज़िक्र किया था, बता दें की अश्विनी कुमार बंगाल में एक रेड़ मारने के सिलसिले में गए थे। जहाँ पर वह मोब लिंचिंग का शिकार हो गए थे। जब से यह घटना हुई थी तब से बंगाल के प्रशासन पर सवाल उठाए जा रहे हैं। वह एक जाबाज़ और ईमानदार पुलिस अधिकारी थे। जब रैली में पीएम मोदी द्वारा यह बात कही गई तो मृतक पुलिस इंस्पेक्टर के घर वालों को थोड़ी राहत मिली।

परिवार को पूरी उम्मीद है की आखिर मामला भारत के प्रधान मंत्री तक पहुँच गया है तो ज़रूर कुछ अच्छा होगा। उनके भाई प्रवीण कुमार का कहना है की घर के बच्चे अनाथ है और उनकी देख रेख के लिए कोई नहीं है उनकी भाभी को भी एक अच्छी नौकरी मिलनी चाहिए। जिससे आगे का जीवन सही ढंग से व्यतीत हो सके। उनके भाई की मांग है मौके पर जो पुलिस कर्मी वहां से पीठ दिखा कर भाग गए थे और जो असल हत्यारे हैं उन पर सख्त कार्यवाही होनी चाहिए। किशनगंज के सांसद द्वारा भी परिवार की मदद करने की मांग की गई है। इस वक्त किशनगंज के सांसद मोहम्मद जावेद हैं।

बता दें की बंगाल के पांतिपाड़ा थाना में किशन गंज के इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार की छापामारी करने के आदेश दिए गए थे। लेकिन इलाके में मौजूद बाइक लूटेरों ने उनको घेर लिया और मारना पीटना शुरू कर दिया, इस मारपीट में जो पुलिस वाले मौजूद थे, वह वहाँ से भाग खड़े हुए लेकिन इंस्पेक्टर आश्विन कुमार डटकर खड़े रहे और बदमाशों का सामना किया, जिसमें उनको अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। शहीद इंस्पेक्टर आश्विन कुमार की बेटी ने आरोप लगाया था की उनके पिताजी को जानभूझकर और एक शाजिस के तहत फसाया गया है। इसके बाद शहीद इंस्पेक्टर के भाई प्रवीण कुमार की मुख्यमंत्री नितीश कुमार से बातचीत हुई थी जिसमें उनको इंसाफ का पूरा आश्वासन मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *