Open Book Exam : आखिर क्या है ओपन बुक एग्जाम? कैसे किया जाता है आयोजित, यहाँ समझे…

Open Book Exam : सीबीएसई बोर्ड (CBSC Board) इस साल 9वीं से 12वीं कक्षा तक ओपन बुक एग्जाम (Open Book Exam) करा सकती है। खबरों की माने तो बोर्ड के गवर्निंग बॉडी की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा की गई है। 2024 के पायलट प्रोजेक्ट के तहत 9वीं से 12वीं के बच्चों की ओपन बुक परीक्षा ली जाएगी।

पायलट प्रोजेक्ट के तहत कुछ चुनिंदा स्कूलों में कक्षा 9th और 10th के लिए अंग्रेजी,गणित और विज्ञान तथा 11वीं और 12वीं के लिए अंग्रेजी, गणित और जीव विज्ञान जैसे विषयों की ओपन बुक एग्जाम (Open Book Exam) ली जाएगी।

अब आप यही सोच रहे होंगे कि ओपन बुक एग्जाम आखिर है क्या। तो हम आपको बता दें कि ओपन बुक एग्जाम (Open Book Exam) में विद्यार्थियों को नोट्स,किताबें आदि खोलकर परिक्षा लिखने की अनुमति रहती है।

क्या है ओपन बुक एग्जाम लेने का उद्देश्य

ओपन बुक परीक्षा (Open Book Exam) लेने का उद्देश्य यह पता लगाना है कि बच्चे कितने समय में अपना एग्जाम पूरा कर पाते हैं। इतना ही नहीं इससे बच्चों के सोचने,आकलन करने,आलोचनात्मक ढंग से देखने तथा समस्याओं को सुलझाने की क्षमता का पता लगाया जाएगा।

इंडियन एक्सप्रेस (Indian Express) की एक रिपोर्ट के मुताबिक एम्स भुवनेश्वर की ओर से कराए गए शोध से यह पता चला है कि ओपन बुक एग्जाम (Open Book Exam) छात्रों का तनाव कम करने में मदद कर सकती है।

पहले भी लागू की जा चुकी है ओबीई

पहले भी सीबीएसई ने 2014-15 से 2016-17 तक 9वीं और 11वीं कक्षाओं के वार्षिक परीक्षाओं के लिए ओपन बुक एग्जाम कराई थी। मगर साल 2017-18 में नकारात्मक प्रतिक्रियाएं आने की वजह से इसे बंद कर दिया गया।