पूरी में श्रद्धालुओं के बिना ही जगन्नाथ यात्रा शुरू, जानें क्या होता है “नव यौवन” दर्शन का मतलब

Jagannath mandir Orissa rath yatra

डेस्क : भारत में 33 करोड़ देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। ऐसे में ओड़िसा के पूरी में भगवान जगन्नाथ की सालाना यात्रा निकाली जाती है। बता दें कि सालाना यात्रा की शुरुआत अब हो चुकी है। भगवान जगन्नाथ की नौ दिन चलने वाली दर्शन यात्रा शुरू हो गई है, सभी लोग जो भगवान जगन्नाथ में विश्वास रखते हैं वह 14 दिन तक जगन्नाथ जी को अनासरा घर में रखने के बाद उनकी युवावस्था की पूजा करते हैं। 11 जुलाई 2021 को ओरिसा सरकार ने पूरे शहर में कर्फ्यू लगाने की घोषणा की है।

ऐसा कहा जाता है कि भगवान बलभद्र, देवी सुभद्रा और भगवान जगन्नाथ 14 दिन के बाद अनासरा घर में अपने असली रूप में प्रकट हुए थे और अपने भक्तजनों को दर्शन दिया था। यह दिन उनके नए रूप में मनाया जाता है। फिलहाल कोरोना वायरस की वजह से किसी भी श्रद्धालु को उत्सव में भाग लेने की अनुमति सरकार की ओर से नहीं दी गई है, बता दें कि रथयात्रा 12 जुलाई को शुरू होगी। ऐसे में रथ यात्रा से 1 दिन पहले यानी कि 10 जुलाई रात 8:00 बजे से कर्फ्यू की घोषणा की गई है। यह कर्फ्यू 13 जुलाई की सुबह 8:00 बजे तक रहेगा।

पूरी शहर को हर तरफ से सील कर दिया गया है। ऐसे में भक्तजनों पर प्रतिबंध लगाने के लिए राज्य सरकार यह कार्य कर रही है। उप-जिलाधिकारी भबतारण साहू का कहना है कि इन प्रतिबंधों को आने वाले समय में बढ़ाया जा सकता है। इस वक्त ओड़िसा में कुछ ऐसे तट शामिल है जहां पर संक्रमण मुख्य तौर पर बढ़ सकता है, इन सभी तत्वों पर बंदिश लगाई गई है। ऐसा माना जाता है कि भगवान लंबे समय से बीमार थे, लेकिन स्वस्थ होने के बाद वह लोगों को अपने दर्शन देते हैं जिसे स्थानीय लोग अणसर कहते हैं।

फिलहाल कोरोना महामारी के चलते भगवान के नए रूप के दर्शन नहीं हो पाएंगे क्योंकि सुप्रीम कोर्ट और कोरोना की गाइडलाइंस का पालन करते हुए ऐसा कर पाना संभव नहीं है। रथ यात्रा को होटल की छत एवं घरों की छत से भी नहीं देखा जा सकेगा, बता दें कि जब लोग छतों पर जाते हैं तो भीड़ लगा देते हैं ऐसे में कोरोना संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है। ओड़िसा सरकार ने साफ कहा है कि जो भी लोग रथयात्रा को देखना चाहते हैं, वह टीवी पर लाइव प्रसारण देख सकते हैं। 2020 से पहले जितनी भी रथ यात्रा निकली है, उनमें 10 लाख से ऊपर की भीड़ जमा हुई है लेकिन कोरोना के चलते 2020 और 2021 में ऐसा होना संभव नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

UPSC टॉपर शुभम की कहानी, 6 साल की उम्र में घर छोड़ा, 12वीं में देखा था IAS बनने का सपना मिलिए जागृति से,जानिए कैसे बनीं वो UPSC के महिला वर्ग में देशभर की टॉपर Divya Aggarwal ने जीता BigBossOTT-जानें ट्रॉफी के साथ कितना मिला कैश ? Jio अब बजट रेंज में लॉन्च करेगा लैपटॉप, ये होंगे कीमत और Features Airtel vs Vi vs Jio : जानें 600 रुपये से कम वाला किसका रिचार्ज प्‍लान सबसे बेस्‍ट