हेमा मालिनी से शादी करने वाले थे जितेंद्र, जब मंडप तक पहुँची बात फिर धर्मेंद्र ने

Jitendra and Hema malini

डेस्क : बॉलीवुड के नायक और महानायक के किस्से तो आप लोगों ने खूब सुनेंगे, एक ऐसे ही किस्से के बारे में आज हम आपको बताने वाले हैं जिसको सुनकर आप चौंक जाएंगे, बॉलीवुड में काम कर चुके जितेंद्र जिनको लोग जंपिंग जैक के नाम बुलाते थे उनकी शादी हेमा मालिनी से तय की गई थी, लेकिन हेमा मालिनी के माता पिता को धर्मेंद्र पसंद नहीं थे।

ऐसे में एक समय पर साफ़ लग रहा था की हेमा मालिनी की शादी जितेंद्र से हो जाएगी, पर ऐसा नहीं हो पाया। उनकी शादी आखिरकार धर्मेंद्र से हो गई। धर्मेंद्र और हेमा मालिनी की यह बात एक किताब “बियांड द ड्रीम गर्ल” में लिखी गई है। हेमा मालिनी की माता जी ने सोचा की बेटी की शादी जल्द से जल्द हो जानी चाहिए और उनके दिमाग में जितेंद्र का नाम आया। तब जितेंद्र और शोभा एक दुसरे के काफी करीबी दोस्त थे और अक्सर मिला करते थे। जितेंद्र भी दिल से हेमा मालिनी को पसंद करते थे। लेकिन जितेंद्र की दोस्ती धर्मेंद्र को बिल्कुल भी पसंद नहीं थी और उसको लेकर एक बार उन्होंने जमकर बवाल भी किया था। हेमा मालिनी का एक समय पर किसी से भी शादी करने का मूड़ नहीं था।

लेकिन, हेमा मालिनी की माताजी ने जितेंद्र के माता-पिता से बात कर ली और सारा मामला सेट कर दिया। उसके बाद जब जितेंद्र की उनके माता-पिता से बात हुई तो माता-पिता की खुशी के लिए उन्होंने भी हां कर दी। इसके लिए चेन्नई में शादी का आयोजन तय किया गया तैयारी शुरू हो गई और सभी परिवार वाले चेन्नई में पहुंच गए। इस खबर को अखबार के पहले पेज पर छापा गया था और फिर जब यह खबर धर्मेंद्र को पता चली तो वे ऊपर से नीचे तक हिल गए। इसके बाद धर्मेंद्र ने जितेंद्र की गर्लफ्रेंड शोभा से बातचीत की और दोनों शादी के मंडप पर पहुंच गए। बता दें की धर्मेंद्र की पहले से शादी हो चुकी थी इसके चलते हेमा मालिनी के घर वाले उनको नहीं पसंद करते थे। लेकिन, जब वह हेमा मालिनी के घर पहुंचे थे तो हेमा मालिनी के पिता गुस्से में आग बबूला हो गए थे और तब धर्मेंद्र ने नशा भी किया हुआ था।

फिर उन्होंने जैसे-तैसे हेमा मालिनी से अकेले में बातचीत की इजाजत मांगी। सब लोग बाहर इंतजार कर रहे थे और धर्मेंद्र के साथ हेमा मालिनी एक कमरे में बात कर रहे थे। जब वह कमरे से बाहर निकले तो जितेंद्र के माता-पिता भी वहां मौजूद थे और उनको इस बात का इंतजार था कि अंदर क्या बातचीत हो रही है। तभी वह बोले कि मैं थोड़ा और समय लेना चाहता हूँ, फिर जितेंद्र को बर्दाश्त नहीं हुआ और उन्हें लगने लगा कि यह तो सीधा अपमान की बात है। वहां से जितेंद्र तुरंत अपने माता पिता को लेकर रवाना हो गए और फिर 18 नवंबर 1974 में जितेंद्र ने शोभा से शादी कर ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *