तिरंगे में लिपट कर वापस आए शहीद धर्मेंद्र कुमार सिंह- अंतिम यात्रा देखने उमड़ी भीड़ – बेटे ने दी नम आँखों से मुखाग्नि

डेस्क : कुछ वक्त पहले जम्मू-कश्मीर में दुश्मनों से लड़ते हुए बिहार का एक जवान शहीद हो गया था, बता दें कि वह शहीद बिहार के रोहतास जिले से था। जवान का नाम धर्मेंद्र कुमार सिंह था। आज उनका पार्थिव शरीर उनके गांव पहुंच गया। पार्थिव शरीर को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया है। ऐसे में जवान के आखिरी अंतिम यात्रा में पूरे गांव की भीड़ उमड़ पड़ी थी। जवान को आखिरी बार देखने के लिए दूर-दूर से लोग आए थे।

बता दें कि जवान की शादी साल 2012 में हुई थी। उनका विवाह शिव सागर के थाना क्षेत्र में स्थित बड्डी गांव में रह रही रूबी से हुआ था। शहीद जवान के 2 पुत्र हैं। इस वक्त लोग चिंता में है कि आगे चलकर धर्मेंद्र का परिवार कैसे गुजर बसर करेगा। फिलहाल के लिए ग्रामीण लोगों की मांग है कि शहीद धर्मेंद्र के नाम पर प्रशासन द्वारा गांव में स्कूल तैयार किया जाए। स्कूल का नाम शहीद धर्मेंद्र कुमार सिंह के नाम पर रखा जाएगा। धर्मेंद्र कुमार सिंह को देखने के लिए लोग दूर-दूर से आए हुए थे। धर्मेंद्र कुमार सिंह के परिवार को बताया गया था कि बुधवार को उनका पार्थिव शरीर घर लाया जाएगा।

गांव वाले मांग कर रहे हैं कि शहीद धर्मेंद्र कुमार के नाम पर एक द्वार के साथ-साथ उनकी मूर्ति तैयार की जाए। परिवार को जानकारी दी गई थी कि कश्मीर के कुपवाड़ा में भारतीय सेना की गाड़ी पलट गई है जिसके चलते जवान को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनका इलाज चल रहा है। फिलहाल के लिए शहीद जवान के बेटों को यह बिल्कुल भी अंदाजा नहीं है कि अब उनके सिर से पिता का साया उठ चुका है। वह बस भीड़ को टकटकी लगाकर देख रहे हैं और लोगों से पूछ रहे हैं कि क्या हुआ ? शहीद धर्मेंद्र कुमार सिंह के बड़े बेटे का नाम तेज प्रकाश है और छोटे बेटे का नाम आर्यन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.