Bihar में अब ऑनलाइन की जायेगी सड़कों की मॉनिटरिंग – जर्जर सड़कों का तुरंत होगा मरम्मत

डेस्क : सड़कों की देखभाल और उसके मॉनिटरिंग के लिए बिहार सरकार ने अब एक नई पहल की शुरुआत करते हुए कंट्रोल एंड कमांड सेंटर तैयार कर लिया है. इस सेंटर की मदद से सड़कों पर नजर रखी जायेगी. बताया जाता है कि सड़क की मॉनिटरिंग के लिए टेक्नोलॉजी का सहारा लिया जा रहा है, जहां सड़क की हालत को ऑनलाइन माध्यम से देखा जायेगा. इतना ही नहीं इसी के आधार पर गलत कार्य करने वाले संवेदक पर भी कार्रवाई भी होगी.

एप की मदद से किया जायेगा काम : रिपोर्ट के अनुसार इस काम को एक एप की मदद से किया जायेगा. इसके लिए अभियंताओं को भी ट्रेनिंग दी जा रही है. इतना ही नहीं इसमें अभियंताओं की निगरानी भी ऑनलाइन की जायेगी. इसके सिस्टम के तहत सड़क पर पेड़ बढ़ने, व्हाइट लाइन मिटने तक की स्थिति पर भी नजर रखी जायेगी. इसकी मदद से लोगों की हर शिकायत दूर की जायेगी. बताया जाता है कि इस कमांड कंट्रोल सेंटर के निर्माण के बाद तीन दिन से लेकर एक महीने के अंदर तक टूटी-फूटी सड़कों को बनाने से लेकर अन्य समस्याओं का समाधान भी किया जा सकेगा. सड़क निर्माण विभाग के द्वारा बेहतर रोड व्यवस्था के लिए रोड मेंटेनेंस एप्लीकेशन तथा मुख्यालय स्थित कंट्रोल एंड कमांड सेंटर भी शुरू किया गया है. यह एप्लीकेशन सभी एंड्राइड स्मार्टफोन पर स्पोर्ट भी करेगा.

निगरानी के बाद सुधर जाएगी सड़कों की हालत : ग्रामीण सड़कों के मरम्मत की निगरानी अब ऑनलाइन माध्यम से होगी. विभाग ने इसके लिए अनुरक्षण मोबाइल एप भी लांच किया है. विभागीय नीति के तहत जिन सड़कों की मरम्मत हो रही है, अब इसी अनुरक्षण एप के तहत उसकी ऑनलाइन निगरानी भी होगी. ठेकेदारों को भुगतान भी इसी एप पर अपलोड किये गये तस्वीरों के आधार पर ही किया जायेगा. अब तक की व्यवस्था में सड़क मरम्मत की रिपोर्ट सिर्फ कागजी प्रक्रिया में होती थी. संवेदक की ओर से सड़क मरम्मत के बाद से कनीय अभियंता उसकी रिपोर्ट सहायक अभियंता को दिया करते थे. इसके बाद सहायक व कार्यपालक अभियंता की मंजूरी मिलने पर एजेंसियों को पैसे का भी भुगतान किया जाता था, लेकिन यह प्रक्रिया पारदर्शी नहीं होती थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *