Naseeruddin Shah का मोदी सरकार पर तंज, कहा- ये 20 करोड़ लोग ना ही खत्म होंगे और न हार मानेंगे

डेस्क : जैसा कि हम जानते हैं बॉलीवुड में आए दिन कुछ ना कुछ गठित होता रहता है। ऐसे में बॉलीवुड के कई सेलिब्रिटीज सरकार पर टिप्पणी करते नजर आते हैं। यह टिप्पणियां अक्सर ही चर्चा का विषय बना जाती है। कुछ लोगों को बुरा लगता है तो कुछ लोग सेलिब्रिटीज का जमकर समर्थन करते नजर आते हैं, इसी बीच बॉलीवुड के जाने-माने सेलिब्रिटी नसीरुद्दीन शाह(Naseeruddin Shah) का बयान आया है जिसमें उन्होंने भारत सरकार पर तंज कसा है।

दरअसल, नसीरुद्दीन शाह(Naseeruddin Shah) का कहना है कि मोदी सरकार के नेतृत्व में मुसलमानों के बीच डर का माहौल फिर पनप रहा है। सरकार को उस तरफ भी गौर फरमाना चाहिए। हाल ही में हरिद्वार के धर्म संसद के विस्तार पर गंभीर बहस हुई थी जिस पर नसरुद्दीन शाह ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है और बिना डरे हुए अपनी राय लोगों के आगे रखी है। आपको बता दें कि इस वक्त नसीरुद्दीन शाह का कहना है कि भारत सरकार जो प्रयास कर रही है, उससे ग्रह युद्ध छिड़ सकता है नसरुद्दीन ने कहा कि देश में रह रहे 20 करोड़ लोग यूं ही नहीं हार मानेंगे वह भी लड़ाई करेंगे।

नसीरुद्दीन शाह ने साफ कहा है कि मुसलमानों के बीच डर बैठाया जा रहा है लेकिन मुसलमान डरने वालों में से नहीं है। मुसलमान डट कर हर चीज का सामना करेंगे क्योंकि मुसलमानों को अपना घर बचाना है, अपनी जमीन बचानी है, अपना परिवार बचाना है एवं अपने बच्चों को भी बचाना है। यह सारी जानकारी नसीरुद्दीन शाह ने The Wire नाम के मीडिया चैनल से एक इंटरव्यू में कही।

नसीरुद्दीन शाह ने बताया कि वह धर्म की बात नहीं कर रहे हैं क्योंकि धर्म को तो आसानी से खतरे में डाल दिया जाता है। दरअसल नसरुद्दीन(Naseeruddin Shah) मुसलमानों के हाशिए की बात कर रहे हैं। देश में मुसलमान असुरक्षित महसूस करते हैं ऐसे में इस बात का कोई भी जिक्र नहीं करता है लेकिन वह उन लोगों को देखने के लिए काफी उत्सुक हैं जो लोग मुसलमानों के खिलाफ हिंसा करते हैं। उन सभी का क्या होगा ? नसरुद्दीन शाह का कहना है कि वह डरे नहीं है। ना ही उन्हें कुछ हुआ है बल्कि वह तो सिर्फ सरकार के रवैया को देखकर निराश है, जिस प्रकार की चीजें सामी निकल कर आ रही है। उससे बस यही उम्मीद लगाई जा सकती है कि आने वाले समय में चीजें और खराब हो सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.