5वीं के बाद नहीं गई कभी स्कूल, 5 बहनों ने मिलकर की पढ़ाई और फोड़ी PCS की परीक्षा – पिता है किसान,माँ करती है चूल्हा चौखा

डेस्क : आज के समाज में औरतें आदमियों से कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। समाज के कई दबे पिछड़े वर्ग तक यह संदेश अब पहुंच गया है और वहां की बेटियां अपने दम पर कुछ करने का हौसला रखने लगी हैं। ऐसे में राजस्थान के परिवार में तीन बेटियों ने मिलकर ऐसा काम करके दिखाया है जिसको करने में अच्छे अच्छों के पसीने छूट जाते हैं। बता दें कि राजस्थान एडमिनिस्ट्रेशन सर्विस 2018 की परीक्षा में तीनों लड़कियों ने बहुत ही अच्छे अंक हासिल किए हैं और अब वह अफसर बन गई हैं।

तीनों बहनों का नाम रितु, सुमन और अंशु है। यह तीनों लड़कियां बहने है और तीनों को पढ़ाने-लिखाने के लिए घर वाले के पास पैसे नहीं थे। ऐसे में उनको बचपन में काफी आर्थिक परेशानियों के चलते पांचवी कक्षा में ही पढ़ाई छोड़नी पड़ी थी। उसके बाद तीनों बहनों ने प्रण किया था कि वह अपनी पढ़ाई किसी भी हाल में जारी रखेंगी, जिसके चलते आज उन्हें यह मुकाम मिला है। आज उनको लोग दूर-दूर से बधाइयां भेज रहे हैं।

तीनों बहनों के पिता का नाम सहदेव सहारण है। सहदेव सारण की 5 बेटियां हैं, जिसमें से पहले ही दो बेटियां सरकारी विभाग में काम कर रही है। ऐसे में तीनों बहनों ने अपनी 2 बड़ी बहनों से मदद लेते हुए परीक्षा पास की है। इन तीनों बहनों ने मिलकर ऐसा काम किया है जिसकी सभी सराहना कर रहे हैं। जिस गांव की हम बात कर रहे हैं। वहां के प्रशासनिक अधिकारियों ने उनको ट्विटर के जरिए बधाई दी है अधिकारियों ने समझाया है कि जिन लड़कियों को समाज एक बोझ समझ रहा था उनको अब यह समाज खूब इज्जत लुटा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.