बिहार में बनेंगे नए ईको टूरिज्म स्पॉट, CM नीतीश कुमार ने तेज प्रताप को दिये ये टास्क..

डेस्क : बिहार में नए Eco Tourism स्पॉट बनेंगे. विभागीय समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वन एंव पर्यावरण मंत्री तेज प्रताप यादव को एक नया टास्क दिया है. मुख्यमंत्री ने कहा है कि बिहार में वन आवरण बढ़कर 15 फ़ीसदी तक पहुंच गया है. उसे 17 फ़ीसदी तक पहुंचाने के लिए बड़े स्तर पर पौधारोपण का कार्य किया जाये. साथ ही Eco Tourism के विकास के लिए नए स्थलों को भी चिन्हित किया जाये. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि टूरिज्म के विकास से राज्य में आनेवाले टूरिस्ट की संख्या सहित स्थानीय लोगों की भी आमदनी बढ़ेगी.

सड़कों के रखरखाव का रखें विशेष ध्यान : वन पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग को बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों को यह निर्देश देते हुए कहा कि बिहार में जो पर्यटन स्थल विकसित किए गये हैं, उसके अतिरिक्त अन्य स्थलों का भी चयन करें. साथ ही उसे पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने के लिए काम करें. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों से कहा कि प्रकृति से सामंजस्य रखते हुए पर्यटन को भी बढ़ावा दिया जाना चाहिए. पर्यटक स्थलों तक की सड़कों के मेंटेनेंस का भी विशेष ध्यान रखा जाए.

हरित आवरण क्षेत्र 9 प्रतिशत रह गया था : मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार से झारखंड के अलग होने के बाद राज्य का हरित आवरण क्षेत्र सिर्फ 9 प्रतिशत ही रह गया था. वर्ष 2012 में हरियाली मिशन की शुरुआत भी की गयी. 24 करोड़ पौधारोपण का लक्ष्य भी रखा गया था, जिसमें 22 करोड़ पौधे भी लगाये गये. बड़ी संख्या में पौधारोपण किये जाने से राज्य का हरित आवरण क्षेत्र बढ़कर अब 15 फ़ीसदी तक पहुंच गया है. जल-जीवन-हरियाली अभियान की शुरुआत साल 2019 में की गयी. इसमें सभी जिलों में अधिक से अधिक पौधारोपण का लक्ष्य भी रखा गया है. राजगीर, गया और अन्य पर्वतीय क्षेत्रों में पौधारोपण के लिए बीज भी डाला गया जिससे वृक्षों की संख्या भी बढ़ी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.