इंजीनियरिंग की पढाई करने के लिए अब फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथेमेटिक्स पढ़ने की कोई जरूरत नहीं – AICTE का बड़ा फैसला

AICTE Rule changed

डेस्क : भारत में हुनरबाज़ों की कमी नहीं है। ऐसे में कुछ लोग अपनी योग्यता से हटकर अनेकों ऐसे कार्य कर दिखाते हैं जिससे भारत का नाम ऊंचा होता है। इस चीज को देखते हुए भारत सरकार के द्वारा यह फैसला लिया गया है कि अगर कोई भी छात्र इंजीनियरिंग का इच्छुक है और उसने ऐसे विषयों में पढ़ाई नहीं की है जो इंजीनियरिंग से जुड़े हुए हैं तो उसको परेशान होने की जरूरत नहीं है। क्यूंकि अब वह छात्र भी इंजीनियर बन सकते हैं।

अब बिना इंजीनियरिंग से जुड़े हुए विषयों को पढ़कर भी छात्र इंजीनियर बन सकता है। इसमें रसायन विज्ञान भौतिक, गणित, इलैक्ट्रॉनिक्स, सूचना प्रौद्योगिकी, जीव विज्ञान, जैव प्रौद्योगिकी और इनफॉर्मेटिक्स जैसे जो इंजीनियरिंग के लिए होते हैं। अगर वह नहीं है तो AICTE एक ऐसी संस्था है जो एजुकेशन देती है। ऐसे में अगर छात्र संशोधित नियमों के हिसाब से चलें तो उसको 12वीं की कक्षा में 45% अंक हासिल करने होते हैं और तीन विषयों में पास होना होता है।

छात्रों को किसी भी 3 विषय में पास होना होता है लेकिन अब एआईसीटीई ने आने वाले भविष्य को ध्यान में रखते हुए कहा है कि आने वाले समय में आईटी इंडस्ट्री काफी आगे बढ़ने वाली है और इसमें सरकार ज्यादा से ज्यादा लोगों को जुड़ता हुआ देखना चाहती है। भारत की आधुनिकता में आईटी एक बहुत बड़ा योगदान है जिसके चलते अब 14 विषयों के अलावा भी अगर कोई छात्र अन्य विषय से आता है तो वह अपना करियर आईटी में बना सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *