लोहड़ी और मकर संक्रांति के पर्व पर मुख्यमंत्री ने दी बिहार वासियों को बधाई – भाईचारे के साथ मनाने की कही बात

डेस्क : बिहार सरकार शुरू से ही प्रयास कर रही है कि वह नई नई योजना ना कर समाज कल्याण का कार्य कर सकें आपको बता दें जिसके चलते बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अनेकों योजनाएं लोगों के लिए ला रखी है और इसका भरपूर फायदा लोग उठा भी रहे हैं । भारत एक कृषि प्रधान देश है और जब भी फसलों का आगमन लोगों के घर में होता है तो हर गांव में खुशियां मनाई जाती हैं।

लोहड़ी और मकर सक्रांति इसका जीता जागता उदाहरण है, आपको बता दें कि मकर सक्रांति पर पवित्र स्नान करने के बाद लोग चूड़ा, दही, तिलकुट खाते हैं। वहीं जब घर में नई फसलें आती है तो लोग लोहड़ी का पर्व मनाते हैं। इन दोनों पर्व के चलते सीएम नीतीश कुमार ने सभी बिहार वासियों को शुभकामनाएं दी है और कहा है कि आने वाले समय में हम सबकी जिंदगी में शांति आएगी और खुशियां आएगी। अब बिहार एक विकसित और समृद्ध राज्य बनने की ओर चल पड़ा है।

जब भी मकर सक्रांति का भोज आयोजन होता है तो उसमें कई नेता आते हैं मिलते हैं बातचीत करते हैं और चूड़ा दही का भोज करते हैं लेकिन इस बार वशिष्ठ नारायण सिंह जो कि जेडीयू के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष हैं उन्होंने कोरोना काल के चलते भोज का आयोजन नहीं किया। यह आयोजन 1999 से किया जा रहा था। लालू परिवार ने भी काफी समय से चूड़ा और भोज उत्सव के तौर पर नहीं मनाया है। इस बार वह गरीबों को चूड़ा भोज बांटने की बात ट्विटर पर करते नजर आ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.