धनबाद के भाई बहन खेतों में मजदूरी कर पालते थे पेट, यूट्यूब को जर‍िया बना खोल ली बंद क‍िस्‍मत…आज लाखों के है माल‍िक

डेस्क : सनातन और सावित्री दोनों भाई बहन हैं। दोनों पर हजारों रुपया क़र्ज़ था, लेकिन आज के समय में वह लाखों रुपया कमा रहे हैं। दोनों झारखण्ड के धनबाद जिले के छोटे गाँव में रहते हैं। दोनों अब सोशल मीडिया स्टार बन चुकें हैं। दोनों मिलकर अब सोशल मीडिया पर ऐसी नृत्य हास्य कलाकारी करते हैं जिसके कई लोग दीवाने हैं। 26 वर्ष का सनातन पढ़ा लिखा है, लेकिन उसके पास नौकरी नहीं है।

जब कोरोना की वजह से लोकडाउन लगा तो पैसे कमाने के सारे रास्ते बंद हो गए। कठिन परिस्थितियों में सनातन ने सोशल मीडिया का सहारा लेते हुए टिक टोक पर वीडियो बनाना शुरू कर दिया। कुछ दिन तक तो सब सही चला लेकिन फिर टिक टोक एप्लीकेशन चीन-भारत के विवाद की वजह से बंद हो गई।

सनातन ने फिर यूट्यूब और इंस्टाग्राम का सहारा लिया और एक के बाद एक वीडियो बनाना शुरू किया। इसके बाद मात्र 9 महीने के भीतर उनके यूट्यूब चैनल (डांसर सनातन) पर 1 मिलियन सब्सक्राइबर्स हो गए जिसकी वजह से परिवार की गरीबी तो ख़तम हुई ही साथ ही दोनों भाई बहनों को लोग जानने लगे। अब दोनों भाई बहन अपने परिवार के लिए पक्का मकान तैयार कर चुकें है।

Sanatan-Mahto

अब उनके पास वीडियो बनाने के लिए एक बेहतर क्वालिटी का कैमरा भी आ गया है। सनातन का कहना है की मेरी सफलता के पीछे मेरी माँ का हाथ है, फिलहाल वह हमारे बीच नहीं है। दोनों भाई बहन ने मिलके कर इंटरनेट पर एक वीडियो भी बनाया था, जिसमें उन्होंने अपनी माँ की मौत की वजह बताई थी। इस वीडियो में दोनों भावुक हो गए थे और यह वीडियो वायरल हो गया था।

Sanatan-Mahto-2

वीडियो में सनातन बताते हैं की उन्होंने खूब मन लगाकर पढ़ाई की लेकिन उनको नौकरी नहीं मिली, इस नाकामयाबी के दौर में उनकी माताजी भी चल बसी। जब उन्होंने यह कहा तो उनकी बहन भी वीडियो में मौजूद थी, जो भावुक हो गईं और कहा की वीडियो काट दो लेकिन सनातन ने ऐसा नहीं किया और वह थोड़ी देर के लिए शांत हो गए। बता दें की दोनों की कहानी लोगों को खूब हौंसला देती है। बॉलीवुड कोरियोग्राफर रेमो डिसूज़ा और गणेश आचार्य दोनों की तारीफ कर चुके हैं। सनातन अब जो वीडियो बनाते हैं उस पर हजारों की तादाद में लोग लाइक करते हैं। दिन प्रतिदिन उनके फॉलोवर बढ़ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.