Bihar में यहां बनेगा शानदार कोलकाता का Victoria Memorial, जानिए – पूरी तैयारी..

डेस्क : शारदीय नवरात्रि को बस कुछ दिन ही बाकी है. इस बार शारदीय नवरात्रि सितंबर माह के 26 तारीख से शुरू होने जा रहा है. 9 दिन का यह मां दुर्गा (godess durga) का व्रत 26 सितंबर से दिन सोमवार से शुरू होगा, जो 5 अक्टूबर को जाकर समाप्त होगा. 10 वें दिन को दशहरा (dusherra) मनाया जाएगा. कोरोना काल के 2 साल बाद इस बार पूरे बिहार में बिना किसी प्रतिबंध के दुर्गा पूजा धूम-धाम से मनाई जाएगी वहीं, राजधानी पटना की अगर बात करें तो इस बार बोरिंग रोड चौराहा व डाकबंगला चौराहे पर भव्य पूजा पंडाल भी बनाया जाएगा. जिसकी सारी तैयारियां अभी से ही शुरू कर दी गई है.

बोरिंग रोड के चौराहे पर दिखेगा विक्टोरिया मेमोरियल : पटना के मशहूर पॉश इलाके में से एक बोरिंग रोड चौराहे की अगर बात करें तो इस बार बोरिंग रोड चौराहे पर कोलकाता का मशहूर विक्टोरिया मेमोरियल महल देखने को मिलेगा. पूजा पंडाल को बनाने के लिए पश्चिम बंगाल से कुछ कलाकार को बुलाया जाएगा. पूजा समिति की मानें तो इस बार चौराहे पर पूजा पंडाल को लगभग 3000 वर्गफीट में बनाया जाएगा. जिसकी ऊंचाई लगभग 60 फीट और चौड़ाई 50 फीट तक होगी. आपको बता दें कि बोरिंग रोड चौराहे पर दुर्गा पूजा पंडाल अपनी भव्यता को लेकर जाना जाता है. पूजा पंडाल को देखने के लिए लगभग 10 से 15 लाख लोग हर साल आते हैं.

डाकबंगला चौराहे पर 3500 वर्गफीट में बनेगा दुर्गापंडाल : आपको बता दें कि कि कोरोना संकट से उबरने के बाद इस बार पटना में बेहद भव्य तरीके से दुर्गापूजा मनाने की तैयारियां चल रही है. शहर में दुर्गापूजा समितियों की तरफ से पंडाल-मूर्ति निर्माण, साज-सज्जा का कार्य भी शुरू हो गया है. 2 साल के बाद डाकबंगला चौराहे पर इस वर्ष लगभग 3500 वर्ग फीट में दुर्गापूजा पंडाल का निर्माण कराया जाएगा. पूजा पंडाल की ऊंचाई 80 से 85 फीट तक की और चौड़ाई 40 से 45 फीट के बीच तक रहेगी. पंडाल निर्माण के लिए यहां भी पश्चिम बंगाल से कुछ कलाकार को बुलाया गया है.

डाकबंगला चौराहे पर 58 साल से होती आ रही है दुर्गा पूजा : डाकबंगला चौराहे पर बीते 58 साल से मां दुर्गा की पूजा हो रही है. यहां साल 1964 में दुर्गा पूजा की शुरुआत की गई थी. साल-दर साल यहां पूजा का आकार बढ़ता चला गया. महज सौ से डेढ़ सौ रुपये से शुरू हुआ पूजा का बजट अब बढ़कर 50 लाख रुपये सालाना तक को पार कर गया है. दुर्गापूजा के दौरान राजधानी में सबसे अधिक भीड़ डाकबंगला चौराहे पर ही जुटती है. सप्तमी से लेकर नवमी देर रात तक श्रद्धालुओं के दर्शन का तांता लगा ही रहता है. एक जानकारी के मुताबिक नवरात्रि के आखिरी 3 दिनों में 20 लाख से ज्यादा श्रद्धालु माता के दर्शन के लिए डाकबंगला चौराहा पहुंचते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *