डॉक्टर की रसीद और पर्ची से मिलेगा हर मरीज को छुटकारा, आधार कार्ड की तरह अब यूनिक हेल्थ कार्ड के जरिए होगा फटाफट इलाज

7
PM MOdi

डेस्क : भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अब देश भर का डंका विदेश में जाकर बजाया है, बता दें कि यूनाइटेड नेशन की मीटिंग में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अध्यक्षता की। अध्यक्षता के दौरान उन्होंने भारत के कई मुद्दे उठाए। ऐसे में उन्होंने आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के बारे में भी चर्चा की इस मिशन के तहत अब हर भारतीय का एक ऐसा कार्ड बनाया जाएगा जिसकी वजह से उसके पूरे जीवन की सेहत का लेखा जोखा होगा।

अब आधार कार्ड की तरह ही लोगों को हेल्थ कार्ड दिया जाएगा, जिसके तहत उनका पब्लिक हॉस्पिटल से जुड़ा कोई भी काम आसानी से हो जाएगा। बता दें कि यदि इस कार्ड को बनाकर कोई व्यक्ति डॉक्टर के पास जाएगा तो डॉक्टर को व्यक्ति की पुरानी जानकारी प्राप्त हो जाएगी। ध्यान रहे कि यहां पर वही जानकारी साझा की जाएगी जो उसकी स्वास्थ्य संबंधी से जुड़ा है।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि जैसे ही यह सुविधा बहाल की जाएगी तो भारत में एक नई क्रांति आएगी। इस योजना को डिजिटल इंडिया के तहत लांच किया जा रहा है, पीएम मोदी ने बताया कि वैक्सीन को मुफ्त दिए जाने से अब कोरोना पर लगाम लगी है। आरोग्य सेतु एप की वजह से भी लोग काफी सहूलियत महसूस कर रहे हैं। बता दें कि यह कार्ड पूरी तरह से डिजिटल होगा। इस कार्ड पर एक नंबर लिखा होगा यह नंबर हुबहू आधार कार्ड की तरह नजर आएगा। यदि आप किसी अस्पताल में जाकर अपना यूनिक आईडी कार्ड बनाते हैं तो आपको काफी सहूलियत मिलेगी। कैसे बनवाएं अपना हेल्थ कार्ड।

इस कार्ड की मदद से अब व्यक्ति को फाइल ले जाने की जरूरत नहीं होगी। सारा डाटा ऑनलाइन मिल जाएगा, सारी प्रकार की सरकारी सुविधाओं की जानकारी इस आईडी कार्ड के जरिए मिल जाएगी। बता दें कि इस आईडी कार्ड को मोबाइल नंबर और आधार नंबर से लिंक किया जाएगा। इस काम को करने के लिए सरकार द्वारा हेल्थ अथॉरिटी तैयार की जाएगी जो एक-एक काम चुटकियों में कर देगी।