Bihar के बस, कैब और टैक्सी में लगेगा ट्रैकिंग डिवाइस और इमरजेंसी बटन, मदद के लिए तुरंत पहुंचेगी पुलिस..

डेस्क : महिलाओं की सुरक्षा के लिए सरकार लगातार कदम उठा रही है। इस संबंध में परिवहन विभाग ने अब सार्वजनिक परिवहन वाहनों में व्हीकल लोकेशन ट्रैकिंग डिवाइस (वीएलटीडी) और इमरजेंसी बटन लगाने की प्रक्रिया तेज कर दी है. केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के निर्देशों का पालन करते हुए इसे अनिवार्य कर दिया गया है। महिलाओं की सुरक्षा के लिए वाहनों में लगने वाले उपकरणों के लिए तीन एजेंसियों का चयन किया गया है. परिवहन विभाग ने गुरुवार को इसका आदेश जारी कर दिया है.

आदेश के अनुसार 1 जनवरी 2019 से पहले पंजीकृत सभी सार्वजनिक परिवहन वाहनों में वीएलटीडी और इमरजेंसी बटन लगाना अनिवार्य कर दिया गया है. इसके बाद सभी पंजीकृत सार्वजनिक परिवहन वाहनों में पहले से ही वीएलटी उपकरण लगाए जा रहे हैं। अगस्त तक निजी बसों में भी वीएलटीडी और इमरजेंसी बटन लगाना अनिवार्य हो जाएगा। स्कूली छात्रों की सुरक्षा के लिए स्कूली बसों में पैनिक बटन लगाने के भी निर्देश दिए गए हैं।

कमांड एंड कंट्रोल सेंटर को अलर्ट मिलेगा : परिवहन विभाग ने हाल ही में कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का उद्घाटन किया है। यहां से सार्वजनिक परिवहन वाहनों (बस, कैब, टैक्सी) की निगरानी की जाएगी। जानकारी के अनुसार सार्वजनिक वाहनों जैसे बसों, कैब, टैक्सी आदि में यात्रा करने वाली महिलाएं या लड़कियां जब खतरे को देखते हुए इमरजेंसी बटन दबाती हैं तो कंट्रोल कमांड सेंटर में अलार्म बजने लगता है. जिसके बाद पुलिस तुरंत वाहन की लोकेशन का पता लगाएगी और मदद के लिए वहां पहुंच जाएगी। सार्वजनिक परिवहन में महिलाओं और लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार की अक्सर खबरें आती रहती हैं। इस तकनीक के बाद इन शिकायतों के कम होने की उम्मीद है।

इसके अलावा इमरजेंसी अलर्ट, ओवर स्पीड और डिवाइस से छेड़छाड़ या छेड़छाड़ का अलर्ट मिलेगा। इसकी मदद से वाहन की लोकेशन की रियल टाइम जानकारी भी मिल सकेगी। वाहन मालिक भी सॉफ्टवेयर के जरिए अपने वाहनों की स्थिति को ट्रैक कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *