Bihar में शुरू हुआ रेलवे का ऑटोमेटिक कोच वॉशिंग प्लांट, अब महज 10 मिनट में चकाचक हो जाएगी ट्रेन..

डेस्क : भागलपुर में सिर्फ 10 मिनट में ट्रेनों की होगी सफाई मालदा रेल मंडल के डीआरएम यतेंद्र कुमार ने सोमवार को ऑटोमेटिक रेल कोच वाशिंग प्लांट का उद्घाटन किया. इस मौके पर डीआरएम ने कहा कि यह वाशिंग प्लांट कई मायनों में अनूठा और खास है। इससे ट्रेनों की सफाई में तेजी आएगी।

ट्रेनों की सफाई में खर्च होने वाले पानी की भी काफी बचत होगी। डीआरएम ने कहा कि अब तक ट्रेन के कोच को धोने में कई लोगों की मेहनत के साथ-साथ काफी समय भी लग रहा था लेकिन अब यह काम मिनटों में हो जाएगा. इस अवसर पर सीनियर डीएमई, सीनियर डीपीओ, कैरिज एंड वेगेज के सीनियर सेक्शन इंजीनियर, चीफ यार्ड मैनेजर और अन्य उपस्थित थे।

रेलवे का यह ऑटोमेटेड कोच वाशिंग प्लांट भी पर्यावरण के अनुकूल है। यह संयंत्र रेल डिब्बों को धोने के पारंपरिक तरीकों की तुलना में 90 प्रतिशत कम पानी का उपयोग करेगा। साफ है कि यह पूरे कोच को सिर्फ 10 फीसदी पानी में धोएगा। एक कॉमन कोच वाशिंग प्लांट को एक कोच को धोने के लिए 1500 लीटर पानी की आवश्यकता होती है, लेकिन एक स्वचालित कोच वाशिंग प्लांट सिर्फ 300 लीटर पानी में पूरे कोच को धो देगा। इस 300 लीटर पानी में भी 80 फीसदी पानी को रिसाइकिल किया जाता है, यानी इस्तेमाल किए गए पानी को साफ कर दोबारा इस्तेमाल किया जाता है।

डीआरएम यतेंद्र कुमार ने कहा कि भागलपुर पूर्व रेलवे का तीसरा सबसे बड़ा स्टेशन है. यह सबसे अधिक राजस्व उत्पन्न करने वाला स्टेशन है। उन्होंने ‘आजादी की रेल गाड़ी और स्टेशन’ से जुड़े एक कार्यक्रम में तिलकमंजी के बारे में भी विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन चल रहा था। यह हम सभी भारतीयों के लिए एक ऐतिहासिक अवधि है जब हम अपनी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *