Indian Railway : देश में ‘कोयला संकट’ के चलते रेलवे ने उठाया बड़ा कदम – रद्द की 1100 ट्रेनें..

19
Black Coal On Train

डेस्क : वर्तमाम में देश कोयला संकट से जूझ रहा है। कोयला संकट के कारण बिजली से लेकर ट्रेनों तक पर काफी असर हुआ है। इसको लेकर भारतीय रेल ने अपने 1100 ट्रेनें कैंसिल करने कर निर्णय लिया है। इस वजह से यात्रियों के साथ-साथ व्यापारियों में भी खास उदासी देखा जा रहा है। इससे निपटने और कोयले की आपूर्ति के लिए रेलवे 15 फीसदी अतिरिक्त कोयले का परिवहन कर रहा है।

कोयले की आपूर्ति बढ़ाने के लिए ट्रेनों पर लगा रोक : बता दें कि कोयला से भरे मालगाड़ी समय से थर्मल पावर प्लांट को सप्लाई कर सकें। इसलिए इन ट्रेनों को रद्द किया गया है, जिससे लाइन हमेशा क्लियर रहे। मालूम हो बीते महीने तक 670 पैसेंजर ट्रेनों को रेलवे ने रद्द किया था। जिससे कोयला सपाई कर रहे मालगाड़ियों में इजाफा कर सकें। इससे छत्तीसगढ़, ओडिशा, मध्य प्रदेश और झारखंड जैसे कोयला उत्पादक राज्यों से आने-जाने वाले लोगों को काफी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में एक्सप्रेस 500 ट्रेनें और 580 पैसेंजर ट्रेनों को रद्द किया गया है।

कोयले की मांग और खपत में 20 फीसदी की बढ़ोतरी : रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके त्रिपाठी ने कहा, पिछले वर्ष के तुलना में इस साल 20 फीसदी कोयले की मांग में बढ़ोतरी देखी गयी है। इसलिए हम बड़ी मात्रा में कोयले का परिवहन कर रहे हैं। हम अतिरिक्त कोयला रेक चला रहे हैं और मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों की तुलना में उच्च प्राथमिकता पर हैं। इस संबंध में केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने कहा था कि कई राज्यों में कोयले की कमी है। ‘रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण कोयले का आयात प्रभावित हुआ है।’ वहीं यह भी कहा जा रहा है कि कोयला कंपनियों का बकाया भुगतान न होने और झारखंड में हड़ताल के कारण कोयला संकट से आपदा से लोगों को परेशानियों का सामना करना पर रह है।