Sahjan Ki Kheti : सहजन की खेती पर बिहार के किसानों को 50 हज़ार की अनुदान राशि देगी सरकार-जानिये

Sahjan Ki Kheti : प्रकृति में कई सारे औषधीय पेड़-पौधे मौजूद है जो आज के रासायनिक खाद-पदार्थों से बचाए रखने में हमारे लिए बेहद कारगर साबित होते हैं। आज के इस दौर में कई तरह की समस्याएं हमारे सामने है, जिसका मर्ज प्रकृति के इन पेड़-पौधों में आसानी से मिल जाता है। इन्हीं पेड़-पौधों में से एक है सहजन (drumstick cultivation) का पेड़, जिसमें केवल औषधीय गुण मौजूद हैं।

इसके पत्ते का हरित सब्जी प्रसंस्करण एवं विपणन संघ प्रोसेसिंग कर पाउडर बनाएगा और फिर इसे विदेश भेजा जाएगा। इस योजना को लेकर 100 एकड़ में सहजन की खेती कराए जाने की बात चल रही है। संघ अध्यक्ष मनोज मेहता के मुताबिक, राज्य के कुछ जिले जैसे कि पटना, समस्तीपुर, नालंदा और वैशाली के किसानों सहजन की खेती कराई जाएगी। इसके लिए सरकार द्वारा उन्हें अनुदान प्रदान कराए जाने की भी योजना है। प्रति एकड़ सहजन की खेती पर किसानों को 50 हज़ार की अनुदान राशि दी जाएगी। इस पेड़ के पत्ते से पाउडर खरीदने हेतु एक कंपनी से ओएमयू होना है। जिसके शीघ्र बाद ही पत्ते का पाउडर बनाकर यूरोपियन देशों में भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

सहजन के पत्ते से बनने वाले पाउडर की मांग यूरोपियन देशों में काफी अधिक है। अगर बात करें अपने देश की तो या पाउडर यहां 8 सौ रूपए किलो की दर से बिकता है। वहीं, विदेशों में इसका दाम तीन गुना ज्यादा है। ऐसा करने से जहां किसानों की आय में वृद्धि होगी, वहीं बिहार की एक अलग पहचान विदेशों में भी उभरकर सामने आएगी। इसके अलावा उन्होंने इसकी भी जानकारी दी कि इस खेती को करने के साथ ही वर्तमान में कितने सहजन के पेड़ मौजूद है, इसका भी सर्वे किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.