बिना कोचिंग के 4वी रैंक..पूर्वी चंपारण के बेटे ने किया है तो आप भी कर सकते हैं.. बताया घर से तैयारी का फॉर्मूला

डेस्क : बीते बुधवार की रात को 66 वी BPSC परीक्षा के मुख्य परिणाम घोषित हुए। बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की 66वीं संयुक्त परीक्षा के अंतिम परिणाम में पूर्वी चंपारण जिले के चिरैया क्षेत्र के मीरपुर निवासी सदानंद कुमार ने 4 रैंक हासिल की है। आइआइटी गुवाहाटी से ग्रेजुएट सदानंद कुमार को अपने दूसरे प्रयास में ही सफलता मिली है। उनका कहना है कि वे पहली बार बिना तैयारी के ही परीक्षा में बैठ गए थे। इस बार पूरी तैयारी के साथ प्रयत्न किया और सफलता भी हासिल की। रोचक बात यह है कि उन्होंने बिना कोचिंग के इस सफलता को अर्जित किया है। उनका मानना है कि कोई भी विद्यार्थी ऐसा कर सकता है।

सदानंद के पिता कमल साह पेशे से किसान थे जिनकी पिछले वर्ष मई में मृत्यु हो गई थी। तीन भाइयों व एक बहन में सबसे बड़े सदानंद कुमार पर पिता के जाने के बाद परिवार की जिम्मेदारी आ गई थी। लेकिन उन्होंने हौसला नहीं खोया। और सेल्फ स्टडी करते रहे। 12वीं तक की शिक्षा उन्होंने चिरैया में ही पूरी की। उसके बाद उनका नामांकन आइआइटी गुवाहाटी में हो गया। वे शुरू से ही प्रशासनिक सेवा में जाना चाहते थे। यही कारण था कि वर्ष 2017 में बीटेक के पूरा होने के बाद अपना पूरा ध्यान परीक्षा की तैयारी पर लगाना शुरू भी कर दिया था।

आइएएस बनना है लक्ष्य : सदानन्द कुमार का कहना है की BPSC में मिली सफलता मेरी मंजिल नही सिर्फ एक पड़वा हैं। मेरा लक्ष्य आईएएस बनना हैं। इसके बाद भी मेरी तैयारी पहले की ही तरह जारी रहेगी। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपनी माँ,पत्नी और सास ससुर को दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.