दिहारी मजदूर की बेटी ने निकाला देश का सबसे कठिन परीक्षा, किया माँ-बाप का नाम रौशन- देखिए इंटरव्यू

14
gate topper

डेस्क : रीवा के एक छोटे से गांव लौरी नंबर-3 की रामकली कुशवाहा ने बहुत अच्छा काम किया है मेहनतकश माता-पिता की बेटी ने देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक GATE को पास कर लिया है। गरीब माता-पिता के संघर्ष ने बेटी के मजबूत इरादों को पंख दिए। दोनों कड़ी मेहनत कर अपनी बेटी की परवरिश कर रहे हैं। मजदूर के परिवार का घर कच्चा हो सकता है, लेकिन इरादा पक्का है।

भाई-बहनों में सबसे बड़ी हैं रामकली : चार भाई-बहनों में रामकली सबसे बड़ी हैं। उसका एक भाई 12वीं में है और बहन 9वीं में है, सबसे छोटा भाई 5 साल का है। रामकली ने बताया कि उन्होंने 12वीं तक गांव के अलग-अलग स्कूलों में पढ़ाई की। फिजिक्स के शिक्षक समीर वर्मा ने बी.टेक करने की प्रेरणा दी। जिसके बाद उन्होंने कृष्णा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग (मनागवां) में दाखिला लिया।

gate topper

कॉलेज 30 किमी दूर था, इसलिए रोज अप-डाउन बस से करते थे। एक साल बाद कॉलेज बंद होने के बाद रीवा के जवाहरलाल नेहरू कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी में ट्रांसफर कर दिया गया। यह कॉलेज 60 किमी दूर था। फिर भी रोज ऊपर-नीचे। एक तरफ का किराया 50 रुपये था। अप-डाउन में बी.टेक सिविल इंजीनियरिंग के दो साल पूरे किए। कोरोना काल में घर से पढ़ाई।

girl cleared gate exam

खाली समय में परीक्षा की तैयारी करें : अगर आप घर में होते तो आपको अपने खाली समय का सदुपयोग करना चाहिए। मैं मन ही मन गेट की परीक्षा देना चाहता था। पापा को लैपटॉप मिल गया। यह वह समय था जब पिता को काम नहीं मिल रहा था। मोबाइल और लैपटॉप पर YouTube के माध्यम से तैयार किया गया। दो साल दिन और रात एक में बदल गए।

gate topper 2

तीन स्कूलों से पढ़ाई, पिता को होता है गर्व : पिता चंद्रिका कुशवाहा ने बताया कि बेटी बचपन से ही होनहार है। सरस्वती ज्ञान मंदिर, गढ़ में कक्षा 1 से 4 तक की पढ़ाई की। फिर 8वीं तक आदर्श स्वामी विवेकानंद सेकेंडरी स्कूल लोरी नंबर 2 से पढ़ाई की। इसके बाद गांधी ग्रामोदय हायर सेकेंडरी स्कूल, गढ़ से 12वीं तक की पढ़ाई पूरी की। गेट का रिजल्ट 17 मार्च को निकला था। जिसमें रामकली ने सिविल इंजीनियरिंग में 3290 ऑल इंडिया रैंक और पर्यावरण विज्ञान और इंजीनियरिंग में 435वीं रैंक हासिल की थी। 23 मार्च को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद रामकली से बात की थी। शिवराज जी ने कहा कि एम-टेक की आगे की पढ़ाई में राज्य सरकार पूरी मदद करेगी.

gate topper 4

रामकली बोलीं- बिना प्लानिंग के पढ़ना, खुद को धोखा देना : रामकली ने गेट की तैयारी कर रहे छात्रों को सफलता के टिप्स दिए। उनका मानना ​​है कि तैयारी के लिए हर दिन का अलग टाइम टेबल बनाना चाहिए। इस बार प्रबंधन ही आगे बढ़ने में मदद करता है। बिना प्लानिंग के पढ़ाई करना खुद को धोखा देने जैसा है। पहले कॉन्सेप्ट क्लियर करें, फिर न्यूमेरिकल प्रैक्टिस करें। गेट पेपर भी अप्लाई करें। इससे आत्मविश्वास बढ़ता है। प्रतिदिन दो या तीन विषयों के साथ अध्ययन करें, क्योंकि एक विषय का अध्ययन करने से आप ऊब महसूस करेंगे। जो विषय पूरा हो चुका है उसे रिवाइज करते रहें।