BPSC पेपर लीक बड़ा खुलासा : चर्चित IAS रंजीत कुमार समेत उनके दोस्त का नाम आया सामने, पढ़ें पूरी खबर..

डेस्क : BPSC की 67वीं पीटी एग्जाम आठ मई को राज्य के एक हजार से ज्यादा सेंटरों पर आयोजित की गई थी। लेकिन परीक्षा के पहले पेपर लीक होने की बात सामने आ गई। जिसके बाद आयोग ने टीम गठित कर परीक्षा को कैंसिल कर दिया। अब इस पूरे मामले की जांच की जिम्मेदारी EOU की टीम को सौंप दी गई है। बता दें कि जांच के बाद चार लोगों को गिरफ्तारी भी की गई है।

इतना ही नहीं EOU द्वारा दर्ज की गई FIR में दो मोबाइल नंबरों की भी बात सामने आई है, जिसमें से एक नंबर IAS अधिकारी रंजीत कुमार सिंह का बताया जा रहा है। गौरतलब है कि FIR में जिस नंबर से बिहार लोक सेवा आयोग के परीक्षा नियंत्रक को प्रश्न पत्र भेजा गया था वो नंबर बिहार पंचायती राज के निदेशक IAS रंजीत कुमार सिंह का है। दूसरा नंबर परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार का है। FIR में EOU के DSP ने अपनी रिपोर्ट में साफ तौर पर लिखा है कि यह कार्य किसी बड़े संगठित गिरोह द्वारा पूरी नीति के साथ आर्थिक लाभ प्राप्त करने के लिए यह किया गया है।

बता दें कि ईओयू ने इस मामले में चार लोगों को फिर गिरफ्तार भी किया है. जिसमें कृषि विभाग भागलपुर का क्लर्क राजेश कुमार शामिल है, जो कि पेपर लीक करने वाले गिरोह का सदस्य भी है. गिरफ्तार हुए तीनों सदस्यों में निशिकांत कुमार, कृष्ण मोहन सिंह और सुधीर कुमार सिंह भी शामिल हैं. कृष्ण मोहन सिंह राजापाकड़ का रहने वाला है. बता दें कि आईएएस रंजीत कुमार की इसकी पुरानी दोस्ती भी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.