जिसको संस्कृत विषय का ज्ञानी होने के बाद भी बोलते थे गंवार, वही लड़का UPSC के परीक्षा पास कर बना अफसर

Adity Kumar Jha IAS Officer

डेस्क : किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करना आसान नहीं होता है। इसके लिए दिन-रात आपको एक ही लक्ष्य के बारे में सोचना होता है और उसी के लिए प्रयत्न करना होता है अनेकों घटनाएं आपके आसपास घटित होंगी, लेकिन आपको अपने लक्ष्य से नहीं भटकना होता है। कुछ ऐसा ही करके दिखाया है आज के आईएएस अधिकारी ने, बता दें कि इस आईएएस अधिकारी ने बचपन से ही संस्कृत पढ़ी है और संस्कृत माध्यम से ही अपनी पढ़ाई पूरी की है लेकिन यह सब करने के बावजूद भी उसने यूपीएससी की परीक्षा पास की और ज्यादा से ज्यादा अंक हासिल किए।

इस आईएएस अधिकारी का नाम है आदित्य कुमार झा इन्होंने अपने परिवार के साथ साथ उन सभी लोगों का नाम रोशन किया है जो संस्कृत पढ़ते हैं उनका मानना है कि लोग समझते हैं यह सिर्फ एक छोटी मानसिकता है कि लोग संस्कृत को अपनी संस्कृति नहीं समझते और संस्कृत बोलने समझने वालों पर ताना कसते हैं। आदित्य कुमार झा के पिताजी संस्कृत के प्रोफ़ेसर हैं और शुरू से ही उनके परिवार में संस्कृत के विद्वान आते जाते रहे हैं। ऐसे में आदित्य के दो भाई और हैं जिसमें से सबसे बड़े वाला भाई इलाहाबाद में यूपीएससी की तैयारी कर रहा था एक बार आदित्य उनसे मिलने गया तो उसने भी मन बना लिया कि वह भी यूपीएससी की तैयारी करेगा।

आदित्य कुमार झा ने अपनी पढ़ाई संस्कृत भूगोल और राजनीति विज्ञान से पूरी की है जब उनकी यह पढ़ाई पूरी हो गई तो उन्होंने फिर MA की पढ़ाई की जिसके लिए वह दिल्ली चले गए। कई लोगों ने उनको गवार कहकर बुलाना शुरू कर दिया था। लेकिन जब आदित्य कुमार झा का रिजल्ट आया तो सब की बोलती बंद हो गई। बता दें कि उनको 2018 के यूपीएससी परीक्षा में 339 रैंक हासिल हुई थी। बता दें कि इससे पहले वह अपना पहला प्रयास दे चुके थे।

जिसमें वह सफल रहे थे उनको एक नौकरी इंटेलिजेंस ब्यूरो में मिली थी। लेकिन उन्होंने वह ज्वाइन नहीं की थी जिसकी वजह से उनके पिताजी काफी नाराज हो गए थे। आदित्य कुमार झा ने अपने ऊपर भरोसा रखा और अपनी पढ़ाई पर भरोसा रखा और मेहनत को 3 गुना कर दिया। इंटरव्यू के दौरान उनका पैर भी फ्रैक्चर हो गया था जिसके चलते उन्होंने व्हीलचेयर का सहारा लिया व्हील चेयर पर इंटरव्यू दिलवाने उनकी बहन लेकर आई थी। उन्होंने अपने फ्रैक्चर्ड पैर के साथ ही इंटरव्यू में सफलता प्राप्त की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *