औंधे मुँह गिरे सरिया के दाम! 40 हजार तक कम हुई कीमत, जानिए – क्या है ताजा रेट?

डेस्क : अगर आप अपना मकान बनवाने की प्लानिंग कर रहे हैं लेकिन महंगाई की वजह से हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे तो अब आपके लिए बढ़िया मौका आया है. देश के अधिकतर हिस्सों में पिछले दो महीने से झमाझम बारिश भी हो रही है, जिसके चलते सरिये की डिमांड अब कम हो गई है. इस वजह से इसके दाम (Sariya Latest Rates) में भारी कमी भी देखी गई है. ऐसे में अगर आप समझदारी से काम लेंते हैं तो इन दिनों मकान का निर्माण शुरू करवाकर भारी फायदा भी उठा सकते हैं.

50-55 हजार रुपये प्रति टन तक आ गये हैं सरिये के दाम : इस्पात मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस साल अप्रैल में TMT सरिये का खुदरा भाव 82 हजार रुपये प्रति टन तक पहुंच गया था, जो अब धीरे-धीरे घटकर 50-55 हजार रुपये प्रति टन तक आ गया है. केवल लोकल ही नहीं बल्कि ब्रांडेड सरिया (Sariya Latest Rates) के दाम में भी 1 लाख रुपये प्रति टन से घटकर 80-85 हजार रुपये प्रति टन तक पहुंच गये हैं. इसका सीधा सा अर्थ ये है कि अगर आप इस वक्त घर का निर्माण शुरू करवाते हैं तो सरिये पर करीब 30 हजार रुपये प्रति टन तक का फायदा आपको प्राप्त होगा .

एक्सपोर्ट ड्यूटी बढ़ाने का भी हैं असर : देश भर में सरिये के दाम कम होने की एक और बड़ी वजह है. दरअसल सरकार ने घरेलू मांग पूरी करने के लिए हाल ही में एक्सपोर्ट ड्यूटी बढ़ा दी है. इसके चलते सरिया कंपनियों को विदेश में माल (Sariya Latest Rates) बेचना अब महंगा हो गया और उन्हें मजबूरन देश के अंदर ही सप्लाई ज्यादा बढ़ानी पड़ी, जिससे इसके दामों में पिछले 2 महीने में रिकॉर्ड कमी दर्ज की गई है. फिलहाल देश में सबसे किफायती सरिया कोलकाता और पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में मिल रहा है. वहीं यूपी के कानपुर में सरिये के दाम में तेजी से कमी हुई हैं. देश के अलग-अलग हिस्सों में भी इसके दाम गिरने लगे हैं.

10 दिन बाद फिर बढ़ सकते हैं सरिये के दाम : सूत्रों का कहना है कि नवरात्र शुरू होने के बाद सरियों के दाम एक बार फिर से तेजी पकड़ सकते हैं. उस वक़्त तक मानसून भी देश से विदा ले चुका होगा. ऐसे में देश में बड़े स्तर पर निर्माण गतिविधियां फिर से शुरू होंगी, जिससे देश में सरिये की मांग जोर पकड़ने लगेगी इसके बाद सरिये के दाम में तेजी देखी जा सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *