Pankaj Tripathi : बिहारी किसान का बेटा जिसने कर दिखाया सिंपल एक्टिंग से भी दिल जीता जा सकता है?

11
Pankaj Tripathi

डेस्क : 5 सितंबर 1976 को बिहार में एक लड़के(Pankaj Tripathi) का जन्म हुआ, उनकी कुंडली देखकर पंडित जी ने कहा कि उनके भाग्य में विदेश जाने की कोई रेखा नहीं है। इस लड़के ने बाद में इतनी मेहनत की कि उसने अपने हाथ की रेखाएं बदल लीं और हिंदी सिनेमा का एक लोकप्रिय चेहरा बन गया। बॉलीवुड के सबसे बहुमुखी अभिनेता बनने से पहले पंकज की जिंदगी किसी फिल्मी स्क्रिप्ट से कम नहीं है। इस स्क्रिप्ट में ड्रामा, रिजेक्शन और उम्मीदें हैं।

pankaj tripathi

किसी फिल्मी स्क्रिप्ट से कम नहीं है पंकज की जिंदगी : गैस ऑफ वासेपुर से लोगों के दिलों में उतरने वाले इस बेहतरीन अभिनेता ने बतौर किसान बेटे की शुरुआत की थी। फिल्मों में आने से पहले वह अपने पिता के साथ खेतों में काम किया करते थे। वासेपुर के बाद जिस तरह से उन्होंने ‘मिर्जापुर’, ‘सेक्रेड गेम्स’ जैसे शोज के जरिए खुद को स्थापित किया, उसे कोई नहीं भूल सकता। उनकी एक्टिंग की तरह यह बात भी उतनी ही सच है कि फिल्मों में आने से पहले वे खेती करते थे।

pankaj tripathi two

पटना पहुंचने के बाद जिंदगी ने फिल्मी मोड़ ले लिया : पंकज त्रिपाठी बिहार के गोपालगंज के बेलसंड गांव के रहने वाले हैं. वह भी गांव में पैदा हुआ और यहीं पला-बढ़ा। गांव में भी वह थिएटर और छोटे-छोटे नाटकों के जरिए लोगों को अपनी प्रतिभा दिखाते रहे। इन नाटकों में उन्होंने ज्यादातर महिला किरदार निभाए हैं। इसके बाद वे पढ़ाई के लिए पटना पहुंचे और यहीं से उनकी जिंदगी ने फिल्मी मोड़ ले लिया। यहीं से उनके जीवन में ड्रामा आया। वह साइकिल से नाटक देखने जाता था। 12वीं कक्षा में उन्होंने ब्लाइंड लॉ ड्रामा देखा। इस नाटक में अभिनेत्री प्रणिता जायसवाल के काम ने उन्हें रुला दिया। इसके बाद उन्हें थिएटर इतना पसंद आया कि पटना में जहां भी नाटक होता पंकज त्रिपाठी वहां पहुंच जाते। 1996 में, वह खुद एक कलाकार बन गए।

pankaj tripathi three

14 साल तक संघर्ष किया, होटल के किचन में भी किया काम : पंकज ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए कहा था, ”मैं रात में एक होटल के किचन में और सुबह थिएटर में काम करता था। यह दो साल तक चलता रहा। मैं शिफ्ट से वापस आता था और फिर 5 घंटे सोता था। दोपहर 2 बजे से। 7 बजे तक थिएटर करता था। फिर रात में 11 से 7 बजे होटल में शिफ्ट करता हूं।” उसी समय उन्होंने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में प्रवेश लेने का विचार किया। लेकिन यहां कम से कम ग्रेजुएशन की योग्यता जरूरी थी। त्रिपाठी ने इस कठिनाई को भी पार कर लिया। उन्होंने हिंदी साहित्य में स्नातक किया। इस दौरान वह होटल में काम भी कर रहा था और दोपहर में खेलता भी था। यही उनका जुनून था जिसने उन्हें इन मुश्किलों से पार पाने की हिम्मत दी।

pankaj tripathi 4

जेल जा चुके हैं पंकज त्रिपाठी : कॉलेज में, वह एबीवीपी में शामिल हो गए और छात्र आंदोलन का हिस्सा बनने के लिए जेल गए। जेल की इस दुनिया ने उनके लिए नए दरवाजे खोल दिए हैं। 16 अक्टूबर 2004 का दिन था जब पंकज एनएसडी से पास आउट होकर मुंबई पहुंचे थे। उसकी जेब में 46 हजार रुपए थे। इस पैसे में दिसंबर तक सिर्फ 10 रुपये बचे हैं।उस समय उनकी पत्नी का जन्मदिन था और उनके पास केक या उपहार के लिए एक भी रुपया नहीं था। पंकज ने खुद कहा है कि उनका कोई बड़ा सपना नहीं था। वह सिर्फ छोटे-छोटे रोल करके किराया देना चाहते थे। लेकिन अपनी मेहनत के दम पर उन्हें वासेपुर मिल गया और आज वो जहां हैं वो अपने आप में किसी सपने से कम नहीं हैं।

pankaj one