टीएमसी संसद मिमी चक्रवर्ती हुईं वैक्सीनेशन फर्जीवाड़े का शिकार – शख्स ने बताया खुद को IAS

डेस्क : वैक्सीनेशन को लेकर देश में फ्रॉड बढ़ता जा रहा है। बता दें की इसका शिकार आम आदमी ही नहीं बल्कि सेलिब्रिटीज भी हो रहे हैं। बंगाली फिल्म अभिनेत्री तृणमूल कांग्रेस की सांसद मिमी चक्रवर्ती भी इसका शिकार हो गई हैं। देश में इस वक्त बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन चल रहा है। ऐसे में जिस सेंटर में यह फर्जी वैक्सीनेशन चल रहा था उसका भंडाफोड़ किया जा चुका है। बता दें कि जिस शख्स ने मिमी चक्रबर्ती को वैक्सीनेशन का झांसा दिया, वह अपने आप को एक आईएएस अफसर बता रहा था।

शख्स का नाम देबंजन है। देबंजन देब की गिरफ्तारी हो गई है। जब मिमी चक्रवर्ती से इस बार में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि मेरे पास एक फोन आया था, जिसमें बताया जा रहा था कि ट्रांसजेंडर और दिव्यांगों के लिए अलग से वैक्सीनेशन ड्राइव चल रही है। वैक्सीनेशन सेंटर पर जब वैक्सीन लगवाई तब मेरे को किसी प्रकार का मेसेज नहीं आया और मुझे शक हुआ। शक होते ही मैंने कोलकाता पुलिस को शिकायत की। बता दें कि जिस आईएएस अधिकारी ने अपने आप को सेंटर का प्रवक्ता बताया, उसकी गाड़ी पर नीली बत्ती लगी थी। वहीं कोलकाता पुलिस का कहना है कि उनको किसी भी प्रकार की एक्सपायरी डेट वाली दवा नहीं मिली है, जब्त की गई वैक्सीन कहां से आई है? इसका पता लगाया जा रहा है।

कोलकाता साउथ डिविजन के डीसी राशिद मुनीर खान इस मामले को देख कर भौंचक्के रह गए आखिर इतनी बड़ी लापरवाही कैसे हो रही है। फिलहाल देबानंद देब को गिरफ्तार कर लिया गया है, कस्टडी में उससे पूछताछ की जा रही है। जब मिमी ने कहा था की मुझे किसी प्रकार का मेसेज नहीं मिला तब सेंटर पर मौजूद लोगों ने कहा की मेसेज और सर्टिफिकेट 3-4 दिन में आ जाएगा। हालाँकि जब यह प्रक्रिया आम तौर पर होती है तो मेसेज और सर्टिफिकेट तुरंत मिल जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.