चाचा -भतीजा मिलकर लालटेन जलाएंगे, बिहार से कईसे भ्रष्टाचार मिटाएंगे

डेस्क : ‘बिहार में किसकी सरकार, फिर से नितिशे कुमार’…. जी हां इन दिनों बिहार की राजनीती में भूचाल मचा हुआ है। एक बार फिर से राज्य में सत्ता परिवर्तन ने सभी को हैरान कर दिया है। इससे पहले सत्ताधारी पार्टी बीजेपी – जेडीयू का गठबंधन टूट चुका है और नीतीश कुमार आरजेडी का दामन एक बार थामकर फिर से चाचा भतीजे वाले रास्ते पर निकल पड़े हैं। जहां बिहार में एक तरफ एनडीए के सत्ता से जाने पर खलबली मची हुई है, वहीं दूसरी तरफ़ महागठबंधन के समर्थकों में काफ़ी उत्साह देखने को मिल रहा है।

TRACTOR

सीतामढ़ी – बिहार प्रदेश वार्ड सदस्य महासंघ संस्थापक सह प्रदेश अध्यक्ष श्री राम प्रवेश यादव, प्रदेश संगठन सचिव श्री मनोज साह, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री जयब्रत झा, सीतामढ़ी जिला वार्ड सदस्य महासंघ के जिला अध्यक्ष श्री विनय कुमार पासवान, कार्यकारी अध्यक्ष श्री राम पदारथ राय, जिला उपाध्यक्ष मोहम्मद शेख अमीरुल, महासचिव श्री सोनम पटेल, कोषाध्यक्ष श्री रमेश प्रसाद सिंह, डुमरा प्रखंड कार्यकारी अध्यक्ष श्री शंभू पासवान, बथनाहा प्रखंड कार्यकारी अध्यक्ष श्री रामेश्वर राय ने संयुक्त रूप से एक बयान जारी कर महागठबंधन सरकार का स्वागत करते हुए अपना बयान जारी कर सरकार से जिले को उचित सम्मान देने की मांग की है।

उन्होंने कहा कि बिहार की राजनीति से एनडीए सरकार के पतन के बाद सत्ता में आए महागठबंधन का हम जोरदार स्वागत करते हैं। साथ ही बिहार के नवनिर्वाचित लोकप्रिय मुख्यमंत्री माननीय श्री नीतीश कुमार तथा जन जन के प्रिय उपमुख्यमंत्री माननीय श्री तेजस्वी प्रसाद यादव को बधाई देते हुए अनुरोध किया कि बिहार में हुए सत्ता परिवर्तन के साथ व्यवस्था में भी परिवर्तन लाई जाए। ज़िले में सभी स्तर पर अफसरों और तमाम भ्रष्टाचारियों के द्वारा हो रहे जनता के शोषण को ख़त्म करने की दिशा में ध्यान दिया जाए। वहीं वार्ड से लेकर राज्य तक के सर्वांगीण विकास का मार्ग को प्रशस्त करते हुए किसानों के खेती करने के लिए खाद्य – पानी और युवाओं के जीवन को बेहतर बनाने के लिए रोज़गार मिले, ताकि कभी कोई भी युवा बेरोजगारी के कारण गलत राह को ना चुने।

बता दें कि प्रदेश अध्यक्ष श्री यादव ने जगत जननी माता सीता की जन्मभूमि और बिहार के ऐतिहासिक स्थलों में से एक सीतामढी को बेहतर बनाने की भी मांग सरकार से की। उन्होंने कहा कि बिहार मंत्रिमंडल में सीतामढ़ी जिला को मंत्रिमंडल में स्थान न देकर एनडीए सरकार ने बिहार के एक अहम हिस्से की निंदा की। ऐसे में वर्तमान राज्य सरकार से गुज़ारिश है कि जदयू एवं राजद कोटा से एक – एक कैबिनेट मंत्री बनाकर जिले को उसका उचित सम्मान दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *