सूबे में बारिश से गेंहू, मक्के को फ़ायदा तो दलहन और तिलहन को नुकसान

डेस्क : मौसम में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला है। जिसकी वजह से रबी की मुख्य फसल गेहूं और मक्का में किसानों को अच्छा उत्पाद होने की उम्मीद है। पटवन के समय बारिश होने के चलते किसानों के सिंचाई का खर्चा बच गया, लेकिन वहीं उन किसानों के लिए यह आफत बनकर बरसी जिनका धान अभी खेत-खलिहान में ही है। बारिश में धान भीग जाने से उसकी कीमत नहीं मिल सकेगी। साथ ही तिलहन को भी काफी क्षति पहुंचेगी। सरसों के फूल झड़ जाएंगे। इसके अलावा आलू, दलहन और बाकी सब्जियों की खेती भी बुरी तरह प्रभावित हुई है।

राज्य के कई जिलों में बुधवार को बारिश होने के साथ कई जगहों पर ओले भी गिरे। अलग जिलों से मिली जानकारी के मुताबिक, इस बारिश के चलते कई फसलों को हानि पहुंची है। औरंगाबाद जिले के कई इलाकों में हुई भारी बर्फबारी ने किसानों के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है। जो भी फसल खेतों में थे, पूरी तरह बर्बाद हो गए। आलू, हरी , सरसों सहित अन्य फसल को भी नुकसान पहुंचा है। मदनपुर, देव, कुटुंबा और नवीनगर प्रखंड में कई घंटों तक बर्फबारी होने से फसल पूरी तरह धराशाई हो चुका है। प्रदेश नवादा जिले में तिलहन, दलहन के साथ गेहूं, आलू, टमाटर, हरी सब्जी, प्याज, करेला, नैनवा आदि सब्जियों को काफी नुकसान हुआ है।

इसके अलावा गोपालगंज में मसूर, हरी सब्जी व सरसों को क्षति पहुंचने का अंदाजा लगाया जा रहा है। रोहतास की कोचस व दावथ प्रखंड में रबी को भारी नुकसान पहुंचा है। इन बर्बादी से परेशान किसानों ने बताया कि मौसम के अचानक बदले रुख से दलहन, तोरी, आलू समेत रबी फसलों को काफ़ी नुकसान हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.