जब इस खिलाड़ी को क्रिकेट छोड़ पिता का ऑटो चलाने की मिली सलाह-तब M S Dhoni साथ खड़े नज़र आए

13
Dhoni helped cricketer siraj

डेस्क : भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज के लिए भारतीय टीम तक पहुंचने का सफ़र काफ़ी मुश्किलों से भरा रहा। इंडियन प्रीमियर लीग में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के तरफ़ से खेलने वाले खिलाड़ी सिराज को अपने ख़राब प्रदर्शन की वजह से आलोचकों की खड़ी खोटी भी सुननी पड़ी।

यहां तक कि उन्हें टीम से बाहर कर देने की मांग होने लगी लेकिन विराट कोहली ने उनके ऊपर विश्वास दिखाया। अब वे भारतीय टीम के बेहतर गेंदबाजों में से एक हैं। एक इंटरव्यू के दौरान सिराज ने बताया कि साल 2019 में उन्हें क्रिकेट छोड़कर पिता के साथ ऑटो चलाने की सलाह दी गई थी। 2019 में आईपीएल के नौ मैचों में से 10 की इकॉनोमी से मात्र सात विकेट लिए थे। उस सीजन में शुरुआती छ: मैचों में बेंगलुरु की टीम सिर्फ़ एक मुकाबले में जीत सकी थी। कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ सिराज ने एक मैच में 2.2 ओवर में 5 छक्के खाए थे और कुल 36 रन दिए थे। दो बीमर के चलते उन्हें गेंदबाज़ी से हटा दिया गया था।

सिराज ने उस मैच को याद करते हुए आरसीबी के पॉडकास्ट में खुलासा किया कि बीमर गेंद के फेंकने के बाद लोगों ने उनकी काफी आलोचना की थी। इस दौरान उन्हें क्रिकेट छोड़कर पिता के साथ ऑटो चलाने की सलाह दी गई। उन्होंने कहा कि लोगों ने मेरे संघर्ष को नहीं देखा, जब पहली बार इंडियन टीम के लिए मेरा सलेक्शन हुआ था तो माही भाई(M S Dhoni) ने मुझे करियर को लेकर जरूरी सलाह दी थी।

सिराज ने कहा कि धोनी उनसे बोले थे – जो लोग कह रहे हैं उस पर ध्यान मत दो। नजरंदाज कर दिया करो। जब आप अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो फिर वही लोग आपकी प्रशंसा भी करते हैं। जब ख़राब खेलते हैं तो बुराई भी करते हैं। इसलिए ऐसी चीजों को ज्यादा गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। सिराज ने आगे बताया कि माही भाई की यह बात सही साबित हुई थी। जो पहले मुझे ट्रोल कर रहे थे, वही बाद में कहने लगे कि तुम सबसे अच्छे गेंदबाज हो। अब मुझे इज इस तरह की बातों से कोई फर्क नहीं पड़ता है।

आईपीएल 2022 के लिए रिटेन होने वाले आरसीबी के तीन खिलाड़ियों में से एक हैं। फ्रेंचाईजी में विराट कोहली, ग्लेन मैक्सवेल और मो सिराज को रिटेन किया गया है। बता दें कि सिराज के पिता ऑटो चलाकर परिवार को चलाते थे। साल 2020 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ टेस्ट सिरीज से ठीक पहले उनकी मौत हो गई थी। तब सिराज टीम इंडिया के साथ आस्ट्रेलिया में थे। अपने पिता के अन्तिम संस्कार में भी सिराज शामिल नहीं हो सके थे।